वीडियो समीक्षा

पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है?

पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है?
वैसे कम्पनी का स्टोक अपने हाई प्राइज पर ट्रेड कर रहा है और कम्पनी के स्टोक मे एक अच्छी रैली देखने को मिल चुका है। इसलिए कम्पनी के स्टोक मे ऊपरी स्तरों से अच्छी मुनाफा वसूली भी देखने को मिल सकता है। लेकिन ज्यादातर ब्रोकरेज हाउस अभी भी कम्पनी के स्टोक मे लम्बे समय के लिए खरीदारी करने की सलाह दे रहे हैं।

Ceat Tyre share price target 2023, 2024, 2025, 2030 सेल्स या होल्ड

Ceat Tyre share price target 2023, 2024, 2025, 2030 in future, क्या कम्पनी के स्टोक मे खरीदारी करने का सही समय है? क्या कम्पनी का शेयर लॉन्ग टर्म इंवेस्टमेंट करने के लिए अच्छा स्टोक है? दोस्तों यदि आप लोग भी गुगल पर इन्हीं सभी सवालों का जवाब तलाश रहें हैं तो आप लोग बिल्कुल सही जगह पर हैं।

आज हम लोग इस आर्टिकल में यह समझने का प्रयास करेंगे कि भविष्य में Ceat Tyre share price target 2023, 2024, 2025, 2030 तक क्या देखने को मिल सकता है? लेकिन इससे पहले हम लोग कम्पनी के बिजनेस माडल और कम्पनी की फाइनेंशियल कंडीशन पर एक नजर डाल लेते हैं।

Ceat Tyre limited company business daitels in hindi

CEAT limited company की स्थापना 1958 में की गई थी। कम्पनी का नाम पहले CEAT Tyres of India limited था। फिर 1990 में कम्पनी का नाम बदलकर CEAT limited कर दिया गया था। CEAT limited company का हेडक्वार्टर मुंबई में है।

कम्पनी सबसे तेजी से बढ़ती टायर निर्माता कम्पनियों में से एक है। कम्पनी का बिजनेस इंडिया के साथ 90+ देशों में फैला हुआ है। श्री लंका में कम्पनी टायर उधोग में 50% की हिस्सेदारी के साथ मार्केट लीडर है।

कम्पनी की प्रतिवर्ष टायर मैन्युफैक्चरिंग कपैसिटी 3.50 करोड़ टायर की है और कम्पनी के पास अपने प्रोडक्ट की मैन्युफैक्चरिंग करने के लिए Nashik, Mumbai, Halol, Ambernath, Nagpur and Chennai में छः मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं।

अगर हम कम्पनी की फाइनेंशियल कंडीशन पर एक नजर डालें तो पिछले तीन सालों में कम्पनी की सेल्स 10% के करीब OPM के साथ 6700 करोड़ रुपए से बढ़कर 9400 करोड़ रुपए हो गई है। इस समय पर कम्पनी के ऊपर 3230 करोड़ रुपए के कैश रिजर्व के साथ 2400 करोड़ रुपए का कर्ज देखने को मिलता है।

Ceat Tyre share price target 2023 in hindi

CEAT Tyres Company आटोमोबाइल कांपोनेट उधोग में इंडिया की सर्वश्रेष्ठ कम्पनियों में से एक है। ग्रेट प्लेस टू वर्क इंस्टीट्यूट द्वारा कम्पनी को भारत पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? की 100 सर्वश्रेष्ठ कम्पनियों में से 35 वा नम्बर दिया गया है।

कम्पनी के पास अपने प्रोडक्ट की सेल्स ग्रोथ को बढ़ाने के लिए 300+ डिस्ट्रिब्यूटर, 3400 डिलर और 35000 sub dealers का अच्छा नेटवर्क है। कम्पनी के पास 300 Outlets, 12 Tyre services hub, 400+ multi brand Outlets हैं।

अगर हम कम्पनी के शेयर प्राइज टार्गेट 2023 की बात करें तो इस समय पर कम्पनी का स्टोक अपने 52 weeks high price पर ट्रेड कर रहा है। अगर आप लोग कम्पनी के चार्ट पर एक नजर डालें तो कम्पनी का स्टोक अपने पिछले पांच सालों के हाई प्राइज 1960 रुपए की तरफ जाता हुआ दिखाई दे रहा है। अगर कम्पनी का स्टोक इस प्राइज टार्गेट को तोड़कर रुकता है तो Ceat Tyre share price target 2023 में 2200 रुपए से लेकर 2350 रुपए तक हो सकता है।

NDTV takeover: प्रणय, राधिका रॉय ने दिया इस्तीफा, आखिर चल क्या रहा है!

News18 हिंदी लोगो

News18 हिंदी 15 घंटे पहले News18 Hindi

© News18 हिंदी द्वारा प्रदत्त "NDTV takeover: प्रणय, राधिका रॉय ने दिया इस्तीफा, आखिर चल क्या रहा है!"

नई दिल्ली. न्यू दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (एनडीटीवी) के अधिग्रहण के लिए अडानी समूह के ओपन ऑफर के बीच NDTV न्यूज चैनल पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? के संस्थापक और मालिक प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय ने प्रमोटर कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (आरआरपीआरएच) के बोर्ड के निदेशक के पद से इस्तीफा दे दिया. प्रणय रॉय एनडीटीवी के अध्यक्ष हैं और राधिका रॉय कार्यकारी निदेशक हैं. इसके बाद एनडीटीवी को खरीदने की अडानी समूह की कोशिश सफल होती दिख रही है. उनके रास्ते की सबसे बड़ी बाधा करीब-करीब दूर हो चुकी है. एनडीटीवी ने जानकारी दी है कि बोर्ड ने सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल सिन्नैया चेंगलवारायण को निदेशक मंडल में तत्काल प्रभाव से नियुक्त करने की मंजूरी भी दे दी है.

Adidas किस देश की कंपनी है और Adidas का मालिक कौन है 2022

क्या आप जानते हैं Adidas किस देश की कंपनी है और इसका मालिक कौन है अगर नहीं जानते हैं तो इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़ें। इस लेख में हमने एडिडास कंपनी से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में विस्तार से बताया है। दोस्तों आपने एडिडास कंपनी का नाम तो सुना ही होगा। यह कंपनी मुख्य पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? रूप से खेल के सामान और कपड़े बनाने के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा एडिडास कंपनी जूते, बैग, घड़ियां, चश्मा आदि भी बनाती है।

Adidas कंपनी, खेल के सामान के निर्माण के अलावा, एक टिकाऊ और मजबूत गुणवत्ता वाले जूता निर्माता के रूप में भी जानी जाती है। महंगा होने के बावजूद भी इस कंपनी के प्रोडक्ट लोगों को काफी पसंद आ रहे हैं। यह कंपनी अपने ग्राहकों को उनकी पसंद के अनुसार उत्पाद बेचने के लिए डिजाइन के काम में भी काफी आगे है। Adidas का फिलहाल प्यूमा और नाइके जैसी बड़ी कंपनियों में दबदबा है।

Adidas किस देश की कंपनी है

यह एक जर्मन बहुराष्ट्रीय कंपनी है, जिसे एडिडास के ब्रांड नाम पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? से दुनिया भर में मान्यता प्राप्त है। इस कॉरपोरेशन की स्थापना दो भाइयों, Adolf Dassler (एडोल्फ डास्लर) और Rudolf Dassler (रुडोल्फ डैसलर) ने मिलकर जुलाई 1924 में की थी, लेकिन बाद में जब दोनों अलग हो गए, तो एडॉल्फ ने 18 अगस्त 1949 को एडिडास की स्थापना की।

इस प्रकार इस ब्रांड के संस्थापक को एडॉल्फ डैस्लर के नाम से जाना जाता है। जूतों के अलावा, यह ब्रांड कपड़ों, खेलों पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? और खेल उपकरणों के निर्माण का काम करता है। यह अपने ग्राहकों को उनकी पसंद के अनुसार अपने उत्पादों को बेचने के लिए, डिजाइन करने के कार्य में भी कुशल है। इसका मुख्यालय जर्मनी के (Herzogenaurach) हर्ज़ोजेनौराच में स्थित है।

वर्तमान में एडिडास यूरोप में सबसे बड़ा स्पोर्ट्सवियर निर्माता है। इसके अतिरिक्त, यह नाइके के बाद दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा स्पोर्ट्सवियर निर्माता है। यूरोप के अलावा दुनिया के अन्य हिस्सों में भी इसके उत्पादों का बड़ी मात्रा में उपयोग किया जाता है। दुनिया भर में बढ़ती खेल संस्कृति के कारण इसके उत्पाद की मांग बाजार में हमेशा बनी रहती है।

Adidas कंपनी का इतिहास

Adidas का ब्रांड नाम इसके संस्थापक एडॉल्फ डैस्लर के पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? उपनाम “आदि” और डैस्लर के शुरुआती तीन शब्दों “दास” को मिलाकर बनाया गया था। जैसा कि आप जानते हैं कि जुलाई 1924 में डास्लर बंधुओं ने मिलकर एक शू फैक्ट्री की स्थापना की थी। जिसका नाम उन्होंने गेब्रुडर डास्लर शूफैब्रिक रखा, जिसका अंग्रेजी अनुवाद डैस्लर ब्रदर्स शू फैक्ट्री था।

प्रथम विश्व युद्ध से लौटने के बाद उन्होंने इस कंपनी की शुरुआत की। फैक्ट्री के लिए जगह की कमी होने के कारण पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? उन्होंने अपनी मां के लॉन्ड्री रूम में जूते बनाने का काम शुरू किया। उस दौरान हर्ज़ोजेनौराच में बिजली की एक बड़ी अनियमितता हुई, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें कई पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है? बार पेडल पावर का उपयोग करना पड़ा। उस समय यह एकमात्र कारखाना था जो खेल के जूते का निर्माण करता था।

डैसलर बंधुओं ने उस दौरान बेहतरीन स्पाइक्ड रनिंग शूज़ बनाने पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने कैनवास और रबर का उपयोग करके भारी धातु के स्पाइक्स को नया रूप दिया। इसके बाद 1936 में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक हुआ, जिसके लिए दोनों भाई एक सूटकेस में स्पाइक्स लेकर बर्लिन पहुंचे।

एडवांस फीचर्स के साथ Tata Blackbird जल्द होगी लॉन्च! Grand Vitara और Creta को मिलेगी टक्कर

टाटा मोटर्स नेक्सान बेस्ड कूपे स्टाइल पर काम कर रहा है, जिसे टाटा ब्लैकबर्ड नाम दिया जा सकता है। इस नए मॉडल को ऑटो एक्सपो 2022 में पेश किये जाने की पूरी उम्मीद जताई जा रही है। इस एसयूवी की कीमत हैरियर से कम होगी और ये बाजार में हुंडई क्रेटा और ग्रैंड विटारा को टक्कर देगी।

tata_blackbird_suv-amp_7739523-m.jpg

Tata Blackbird: एसयूवी सेगमेंट में टाटा मोटर्स की तरफ कई मॉडल लॉन्च हो चुके है, जिन्हें ग्राहक खूब पसंद भी कर रहे हैं। लेकिन अब एक बार फिर टाटा एक और नई SUV को भारत में लाने की योजना बना रही है। कंपनी अपने एसयूवी पोर्टफोलियो को बड़ा करने के लिए नई एसयूवी Tata Blackbird पर काम कर रही है, जो कि कंपनी की बेस्ट सेलिंग कॉम्पैक्ट एसयूवी Nexon पर बेस्ड होगी। इस एसयूवी के लॉन्चिंग की ख़बरें लंबे समय से आ रही थीं, ये X1 ऑर्किटेक्चर पर ही तैयार की जाएगी। बताया जा रहा है कि, ये एक कूपे स्टाइल एसयूवी हो सकती है, जिसे मिड-साइज़ सेग्मेंट के आधार पर तैयार किया जाएगा।

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 426
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *