फोरेक्स टुटोरिअल

भारत में ETF

भारत में ETF
क्‍या है निवेश के ऑप्‍शन : इंवेस्‍टर्स छोटी और लंबी दोनों अवध‍ि के लिए निवेश कर सकते हैं। अगर बात छो‍टी अवधि‍ के बांड की करें तो इसमें मैच्‍योरिटी 3 से 5 साल होती है। वहीं दूसरी ओर लंबी अवधि के बांड में निवेश की मैच्‍योरिटी 10 साल तक होती है। अगर आप रुपया निकालना चाहते हैं इसमें लॉक इन पीरियड नहीं होता है जिसकी वजह है शेयर बाजार में ट्रेडिंग होना। अगर निवेशक को किसी वजह से रुपया निकालना चाहता है तो वह एक्सचेंज में अपनी यूनिट बेच सकता है। उसी दिन के हिसाब से जो होगा निवेशक को रुपया मिल जाएगा

भारत बॉन्ड ईटीएफ का चौथा चरण दिसंबर में शुरू होने की संभावना

वर्ष 2019 में बॉन्ड ईटीएफ की पहली पेशकश की गई थी। सीपीएसई को इसके जरिये 12,400 करोड़ रुपये जुटाने में मदद मिली। इसने दूसरे और तीसरे चरण में क्रमश: 11,000 करोड़ रुपये और 6,200 करोड़ रुपये जुटाए थे। ईटीएफ ने अबतक अपनी तीन पेशकशों में भारत में ETF 29,600 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

भारत बॉन्ड ईटीएफ केवल सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के ‘एएए’ रेटिंग वाले बॉन्ड में निवेश करता है। एडलवाइस एसेट मैनेजमेंट इस योजना की पूंजी प्रबंधक है।

ईटीएफ के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां 2019 से शुरू होने के बाद से अब तक 50,000 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गई हैं।

वर्तमान में ईटीएफ के लिए पांच भिन्न-भिन्न परिपक्वता अवधि हैं…2023, 2025, 2030, 2031 और 2032…।

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

भारत में ETF

thumbs-up

Q. With reference to Bharat Exchange Traded Fund ETF 22, consider the following statements:Which of the statements given above is/are correct?Q. भारत एक्सचेंज ट्रेडेड फंड ETF 22 के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

Q. With reference to Bharat Exchange Traded Fund (ETF) 22, consider the following statements:

Which of the statements given above is/are correct?

Q. भारत एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) 22 के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

Bharat Bond ETF: दिसंबर में जबरदस्त कमाई का मिलेगा मौका, शुरू होगा भारत बॉन्ड ईटीएफ का तीसरा चरण

ईटीएफ (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत बॉन्ड ईटीएफ का तीसरा चरण आगामी तीन दिसंबर को खुलेगा और सप्ताह भर तक खुला रहेगा। इसका सब्सक्रिप्शन नौ दिसंबर को बंद होगा। भारत बॉन्ड के तीसरे चरण के जरिए सरकार की योजना 10,000 करोड़ रुपये जुटाने की है। गौरतलब है कि यह देश का पहला कॉरपोरेट बांड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है। भारत बॉन्ड ईटीएफ में कम से कम निवेशक 1,000 रुपये निवेश कर सकते हैं। इसके बाद 1,000 रुपये के मल्टीपल में निवेश का विकल्प मौजूद होता है।

पहली और दूसरी किस्त से जुटाए इतने करोड़
भारत बॉन्ड ईटीएफ की पहली किस्त की पेशकश दिसंबर 2019 में की गई थी इसके जरिए सरकार ने लगभग 12,400 करोड़ रुपये की राशि जुटाई थी। दूसरी किस्त को जुलाई 2020 में लॉन्च किया गया था। यह तीन गुना से ज्यादा सब्सक्राइब हुआ था। सरकार ने इससे 11,000 करोड़ रुपये जुटाए थे।

विस्तार

भारत बॉन्ड ईटीएफ का तीसरा चरण आगामी तीन दिसंबर को खुलेगा और सप्ताह भर तक खुला रहेगा। इसका सब्सक्रिप्शन नौ दिसंबर को भारत में ETF बंद होगा। भारत बॉन्ड के तीसरे चरण के जरिए सरकार की योजना 10,000 करोड़ रुपये जुटाने की है। गौरतलब है कि यह देश का पहला कॉरपोरेट बांड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है। भारत बॉन्ड ईटीएफ में कम से कम निवेशक 1,000 रुपये निवेश कर सकते हैं। इसके बाद 1,000 रुपये के मल्टीपल में निवेश का विकल्प मौजूद होता है।

पहली और दूसरी किस्त से जुटाए इतने करोड़
भारत बॉन्ड ईटीएफ की पहली किस्त की पेशकश दिसंबर 2019 में की गई थी इसके जरिए सरकार ने लगभग 12,400 करोड़ रुपये की राशि जुटाई थी। दूसरी किस्त को जुलाई 2020 में लॉन्च किया गया था। यह तीन गुना से ज्यादा सब्सक्राइब हुआ था। सरकार ने इससे 11,000 करोड़ रुपये जुटाए थे।

तीसरी किस्त 2032 में होगी मैच्योर
भारत बॉन्ड ईटीएफ के तीसरे चरण के इश्यू का मूल आकार ‘मुक्त ग्रीन शू विकल्प’ के साथ 1,000 करोड़ रुपये का होगा। ईटीएफ की तीसरी भारत में ETF किस्त के अप्रैल 2032 में मैच्योर होने की उम्मीद है। भारत बॉन्ड ईटीएफ वित्त मंत्रालय के तहत निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) की एक पहल है और एडलवाइस एमएफ द्वारा प्रबंधित है।

आख‍िर क्‍या है भारत बांड ईटीएफ, कितना मिलता है निवेश पर रिटर्न

आख‍िर क्‍या है भारत बांड ईटीएफ, कितना मिलता है निवेश पर रिटर्न

भाजपा के बाद सबसे अधिक चंदा कांग्रेस पार्टी को मिला। (फाइल फोटो)

बांड यील्‍ड में 4.3 फीसदी की गिरावट आने की वजह से अमीर निवेशकों की ओर से टैक्‍स फ्री बांड से रुपया निकाला जा रहा है। वहीं इनमें कुछ भारत बांड ईटीएफ में निवेश कर रहे हैं। भारत बांड ईटीएफ में ट्रिपल ए रेटिंग की कंपनियों को शामिल किया गया है। 2030 और 2031 में मैच्योर करने वाले भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश से टैक्स कटने के बाद 6 फीसदी रिटर्न हासिल किया जा सकता है।

वैसे भारत भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश करना काफी आसान है और इसकी भारत में ETF प्रक्रि‍या भी काफी आसान है। भारत बॉन्ड ईटीएफ को खरीद-फरोख्त एक्सचेंज में की जाती है। जो अपने फंड का निवेश सरकारी कंपन‍ियों के बांड में करता है। बॉन्ड की मैच्योरिटी अवधि फंड की मैच्योरिटी के करीब होती है।

भारत का पहला निफ्टी 50 ईटीएफ फंड ऑफ फंड

प्रश्न – हाल ही में जारी देश का पहला निफ्टी 50 ईटीएफ (Exchange Traded Fund – ETF) फंड ऑफ फंड के संबंध में निम्नलिखित कथन के आधार पर सही उत्तर का चयन करें –
(i) इसे क्वांटम म्यूचुअल फंड (Quantum Mutual Fund) द्वारा लांच किया गया है।
(ii) यह फंड निवेशकों को बिना डीमेट खाता खोले भारत के शीर्ष 50 निफ्टी में निवेश करने की सुविधा प्रदान करता है।
(iii) इस योजना के फंड मैनेजर हितेंद्र पारेख हैं।
(a) (i) और (ii)
(b) (i) और (iii)
(c) (ii) और (iii)
(d) उपर्युक्त सभी
उत्तर – (d)
संबंधित तथ्य –

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 388
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *