एक ट्रेडिंग रोबोट

एक छात्र की तरह शेयर बाजार को सीखें और समझे

एक छात्र की तरह शेयर बाजार को सीखें और समझे

क्या शेयर बाजार से पैसा कमाया जा सकता है ?

क्या शेयर मार्केट से पैसा कमाया जा सकता है? यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण और गंभीर प्रश्न है, जिसका जवाब हर वह व्यक्ति जानना चाहता है जिसको भी शेयर मार्केट के बारे में जरा सी भी दिलचस्पी है। क्योंकि वह व्यक्ति जिसको शेयर मार्केट की कोई समझ नहीं है, उसे शेयर मार्केट का क ख ग घ भी नहीं पता है। वह शेयर मार्केट में तभी आगे बढ़ता है जब उसे थोड़ा बहुत यकीन हो जाए कि हां इससे पैसा बनाया जा सकता है। जब किसी भी इंसान को इस बात का यकीन हो जाता है तभी वह शेयर बाजार में अपना कदम आगे बढ़ाता है।

देखिए मेरा मानना है कि एस ब्लॉग पर कुछ लोग ऐसे हैं जो सिर्फ यह जानने के लिए आए हैं कि शेयर मार्केट से पैसा कमाया जा सकता है या नहीं तो मैं उनके लिए जल्द से जल्द जवाब देना चाहूंगा ताकि वह इतना ही जान कर इस ब्लॉग से वापस चले जाएं कि शेयर बाजार से पैसा कमाया जा सकता है या नहीं ताकि उन्हें यह ब्लॉग पूरा ना पढ़ना पड़े और उनका बेशकीमती समय जाया ना हो। लेकिन जो लोग शेयर बाजार को लेकर सचमुच सीरियस है और वह इसे सीरियसली सीखकर शेयर बाजार में अपना करियर बनाना चाहते हैं या फिर अच्छा पैसा कमाना चाहते हैं। उनके लिए मेरी यही सलाह होगी कि वह ब्लॉग को पूरा अंत तक पढ़ें ताकि उन्हें पूरी जानकारी मिले कि शेयर बाजार से पैसा कमाया जा सकता है या नहीं? यदि कमाया जा सकता है तो कैसे कमाया जा सकता है? मैं यहां पर अपने सभी पाठक मित्रों से अनुरोध करूंगा अगर ब्लॉग पढ़ने के बाद भी आपको इसमें कुछ समझ में नहीं आया तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं या फिर आप चाहे तो आप हमें ईमेल भी कर सकते हैं। दोस्तों जो लोग सिर्फ यह जानने के लिए आए थे कि पैसा कमाया जा सकता है या नहीं तो मैं उनके लिए बता देना चाहता हूं कि जी हां शेयर मार्केट से पैसा कमाया जा सकता है।

देखिए अगर आप अभी भी इस ब्लॉग को पढ़ रहे हैं तो मुझे यह मानने में कोई भी गुरेज नहीं है कि आप शेयर बाजार को लेकर सच में सीरियस है। देखिए ऐसा है अब हम यह तो जान गए हैं कि शेयर मार्केट से पैसा कमाया जा सकता है लेकिन मेरे हिसाब से अब आपको यह भी जान लेना चाहिए कि शेयर मार्केट से पैसा कमाना आसान बिल्कुल भी नहीं है। यह शेयर मार्केट की कड़वी सच्चाई है कि आप आसानी से यहां पैसा नहीं कमा सकते। उसके लिए आपको बहुत ज्यादा परिश्रम करना पड़ेगा, बहुत ज्यादा फोकस रहना पड़ेगा, साथ ही साथ बहुत ही ज्यादा अनुशासित रहना पड़ेगा । मेरा उद्देश्य यहां पर आपको शेयर मार्केट के प्रति डर पैदा करने का बिल्कुल भी नहीं है। मेरा उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ आपको इस सफर की शुरुआत में ही आगाह करना है कि कठिन परिश्रम और अनुशासन से ही हम इस सफर पर चल सकते हैं और यदि आप परिश्रम और अनुशासन इन दो नियमों का पालन नहीं कर सकते तो मेरी आपको सलाह है कि आप अभी से शेयर मार्केट को छोड़ दें क्योंकि इसमें आर्थिक नुकसान अर्थात पैसे की बर्बादी बहुत ज्यादा हो सकती है। यदि आपने एक बार परिश्रम और अनुशासन के साथ शेयर मार्केट को सीरियसली सीख लिया तो आप बड़ी ही आसानी से बहुत सारा पैसा बना सकते हैं। इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको शेयर बाजार को सीखने और समझने में हर संभव मदद करने का प्रयास करूंगा बस आपको हमारे साथ बने रहना है और जहां भी आपको कुछ परेशानी हो तो आप हमें मेल करिए या फिर कमेंट बॉक्स में कमेंट करिए। मैं आपके हर सवाल का जवाब दूंगा सवाल पूछते समय यदि आपको संकोच लग रहा है कि मेरा सवाल सही है या नहीं तो भी सवाल पूछे, मैं आपके सवालों का जवाब दूंगा।

शेर बाजार से पैसा कमाने के लिए आपको शेयर बाजार की बारिकियों को समझना होगा। एक बात अपने दिमाग में बिल्कुल गांठ बांधकर रख लीजिए कि शेयर बाजार के काम करने का तरीका बिल्कुल अलग है। हम जिस तरीके से अपने सामान्य जीवन में किसी भी काम को करने के लिए निर्णय लेते हैं या फिर उस निर्णय को लेने के लिए जो हमारे सोचने का तरीका है। वह तरीका शेयर बाजार में हमारे काम नहीं आने वाला है। इसके इतर हमें अपनी सोच और अपने दिमाग को बिल्कुल अलग तरीके से ट्रेंड करना है। शेयर बाजार की काम करने की तरीके पर हम आगे भी बात करेंगे।

कहां से शुरु करें

देखिए अगर आपने यह मान लिया है कि आपको पता चल गया कि, हां यार शेयर बाजार से तो पैसा कमाया जा सकता है और अब मुझे आज से ही इसमें पैसा इन्वेस्ट कर देना चाहिए और कल से ही आप पैसा कमाना शुरू कर देंगे तो आप सरासर गलत हैं। अगर आप मुझसे पूछेंगे तो मैं आपको ऐसी कोई सलाह नहीं दूंगा। मेरे हिसाब से शेयर बाजार में प्रवेश करने के दो रास्ते हैं। पहला आप शेयर मार्केट में अपना पैसा इन्वेस्ट कर दें और उसका काफी सारा हिस्सा लूज होने के बाद आप शेयर मार्केट को सीखना शुरू करें और दूसरा पहले आप शेयर मार्केट को सीखें फिर शेयर मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करें। मेरे हिसाब से ये जो दूसरा रास्ता है यह आपके लिए बेहतर साबित होगा। पहले आप मार्केट को अच्छी तरह से सीखे जब आपको इसका अनुभव हो जाए तब आप इसमें थोड़ा-थोड़ा करके पैसा इन्वेस्ट करें। यहां एक बात आपके लिए जानना महत्वपूर्ण है की आपको शेयर बाजार में शुरुआत हमेशा छोटे कैपिटल से ही करनी चाहिए। कहने का मतलब है कि ज्यादा पैसे एक साथ ना लगाए।

शेयर मार्केट से जुड़ी हुई एक बहुत बड़ी जानकारी मैं आपको अभी देना चाहता हूं जो आपके काम आ सकती है। देखें शेयर मार्केट में जब भी आप शेयर खरीदते हैं तो उस शेयर को खरीदने का तरीका जो भी है वो तरीका जब आप उस स्टॉक के 1000 शेयर लेते हैं तब भी वही रहता है या जब आप उस स्टॉक के 5 शेयर लेते हैं तब भी खरीदने का तरीका बिल्कुल वही रहता है। यहां मैं आपसे यह कहना चाहूंगा की आप हमेशा अपने शुरुआती दिनों में थोड़े पैसे से शुरुआत करें। कहने का मतलब है कि आप कम शेयर खरीदें। शेयर बाजार के शुरुआती दिनों में आप का उद्देश्य सिर्फ शेयर बाजार के काम करने के तरीके को सीखना है ना कि शेयर बाजार से पैसा कमाना। एक बार जब आप शेयर बाजार के तरीकों को सीख जाएंगे तो पैसा तो खुद ब खुद आपके पास आएगा।

यह बात आप जान लीजिए, हो सकता है कि आप पहले से भी जानते हो, कि शेयर मार्केट में पैसा कमाना आसान नहीं है। अगर आपने अपने आसपास किसी को शेयर मार्केट में पैसा लगाते हुए देखा होगा तो बहुत ज्यादा चांस है कि उस व्यक्ति ने अपना ज्यादा से ज्यादा कैपिटल खो दिया होगा। आप यह बात मान कर चलिए कि शेयर बाजार के शुरुआती दिनों में जो लॉस है, वह लगभग निश्चित है। बस आपको यह ध्यान रखना है कि आपको हानि कम से कम पहुंचे।

मैं यह मान कर चलता हूं कि क्रिकेट हर हिंदुस्तानी के दिल में बसता है और हिंदुस्तान के लोगों को क्रिकेट की बारीकियां भली-भांति समझ में आती हैं। मैंने आपको पहले भी बताया था कि क्रिकेट और शेयर बाजार की कार्यशैली में बहुत ज्यादा समानता है। ऊपर कही गई बात को यदि आप क्रिकेट की भाषा में समझे तो शेयर बाजार एक टेस्ट मैच की तरह है जिसमें आपको अपनी विकेट अंत तक बचा कर रखना है, यहां विकेट का तात्पर्य आपके पैसे से है, यदि आपके पास विकेट बची हुई है, बेशक आप मैच ना जीते हैं लेकिन आप मैच हार नहीं हो सकते हो। आप कम से कम मैच को ड्रॉ करा लेंगे। उसी फिलासफी पर अगर आप शेयर बाजार में काम करते हैं तो आपको अपना कैपिटल अर्थात अपना विकेट संभाल कर रखना है। जिस प्रकार क्रिकेट में बाउंसर्स आती है, गूगली आती है, कैरम बॉल आती है, रिवर्स स्विंग आती है और बल्लेबाज को बिल्कुल पता नहीं चलता कि उसे किस प्रकार बल्लेबाजी करनी है। उसी प्रकार जब आप शेयर बाजार में काम करेंगे तो आपका स्टॉक भी आपको कुछ समझ में नहीं आएगा। शुरुआती दिनों में आपको लगेगा यार यह बढ़ रहा है, फिर अचानक गिर पड़ेगा, फिर आप सोचेंगे मैं निकल जाऊं, फिर आप बेच देंगे और आपके बेचते ही वह फिर से उपर चला जाएगा।

जिस तरह क्रिकेट के महान बल्लेबाज, गेंद जब बालर के हाथ से निकलती है तभी उसे पहचान लेते हैं कि वह कौन सी गेंद है इनस्विंग या आउटस्विंग। उसी तरह आपको भी स्टॉक कि शुरुआती चाल से ही समझ लेना होगा कि अब यह स्टॉक ऊपर जाने वाला है या नीचे जाने वाला है। जिस दिन आपको यह बात समझ में आ जाए उस दिन से आप शेयर बाजार में पैसा लगाएं क्योंकि आपका पैसा बहुत कीमती है आपने इसे बहुत मेहनत से कमाया है। आपकी जरा सी भी लापरवाही से एक बारी पैसा आपके हाथों से निकल गया तो आपके लिए इसको दोबारा अर्जित करना शेयर बाजार से काफी मुश्किल होने वाला है। एक बात और ध्यान रखिए मैं आपको यहां पर शेयर बाजार से बिल्कुल डराने का प्रयास नहीं कर रहा हूं मैं आपको सिर्फ शेयर बाजार की हकीकत से वाकिफ कराना चाहता हूं ताकि आप सतर्क रहें सावधान रहें।

बोर्ड परीक्षा: घबराएं नहीं, अगर शुरुआत हो जाए खराब

बोर्ड परीक्षा के दिनों में छात्र कई तरह के उतार-चढ़ाव से होकर गुजरता है। कभी उसके प्रश्न पत्र अच्छे होते हैं तो कभी कुछ कमियां भी रह जाती.

बोर्ड परीक्षा: घबराएं नहीं, अगर शुरुआत हो जाए खराब

बोर्ड परीक्षा के दिनों में छात्र कई तरह के उतार-चढ़ाव से होकर गुजरता है। कभी उसके प्रश्न पत्र अच्छे होते हैं तो कभी कुछ कमियां भी रह जाती हैं। प्रश्न पत्र अच्छा हो गया है तो कोई दंभ न करें और खराब हो गया है तो कोई गम न करें। यानी दोनों ही स्थितियों में छात्र को संयम बरतने की जरूरत है। इस बारे में बता रहे हैं संजीव कुमार सिंह

इन दिनों सीबीएसई सहित प्रमुख शिक्षा बोर्डों की परीक्षाएं चल रही हैं। छात्र परीक्षा की तैयारी में व्यस्त होंगे। जिन छात्रों के शुरुआती प्रश्न पत्र अच्छे हुए हैं, उनके लिए खुशी की बात है, लेकिन उन्हीं में से कुछ ऐसे छात्र भी होंगे, जो शुरू के दिनों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए होंगे। दोनों ही स्थितियों में अपने विवेक को बनाए रखना जरूरी है। प्रश्न पत्र अच्छा होने की खुशी में लापरवाह हो जाना खतरे से खाली नहीं है और खराब होने की दशा में उसका रोना लेकर बैठ जाना भी नुकसानदायक है।

यह सही है कि छात्र थोड़ी-सी गलती पर हतोत्साहित हो जाते हैं, इसमें नया कुछ भी नहीं है। पर इस स्थिति में जो शांत रहते हुए बेहतर प्रदर्शन करते हैं, सफलता उन्हीं को मिलती है। यदि आप पहले ही हिम्मत हार कर बैठ जाएंगे तो सफल होने के आधे अवसर वहीं खत्म हो जाएंगे।

पुरानी बातें भूल कर आगे की सोचें
इसमें दो राय नहीं कि शुरुआती दौर में यदि प्रश्न पत्र अच्छा हो जाए तो उससे आत्मविश्वास बढ़ता है और आगे भी बेहतर कर गुजरने की प्रेरणा मिलती है, लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आरंभिक झटकों के बाद संभला जा ही नहीं सकता। शेष बचे प्रश्न पत्रों में अपना सर्वश्रेष्ठ देना तो आपके हाथ में है ही। जो शुरुआती गलतियां हुई हैं, उन्हें दोबारा न दोहराने का संकल्प लेते हुए विषय के मुताबिक तैयारी करते रहें।

लय बरकरार रखें
आपके पेपर अब तक यदि बेहतर गए हैं तो इसे लेकर बहुत ज्यादा उत्साहित होने की बजाय उस प्रदर्शन को बरकरार रखने की कोशिश करें। ऐसा न हो कि आप अति उत्साह में इस कदर बह जाएं कि आगे के प्रश्न पत्रों में लय ही टूट जाए और उनमें आप पहले जैसा प्रदर्शन न कर पाएं। कहने का आशय सिर्फ इतना है कि जिस जोश के साथ आपने शुरू के प्रश्न पत्रों में अपना प्रदर्शन दिया है, वही अंदाज आगे भी बनाए रखें। इससे आपकी गाड़ी पटरी से भी नहीं उतरेगी और नंबर भी अच्छे आएंगे।

आलोचनाओं को सहज लें
पेपर खराब होने पर कई बार पेरेंट्स भी अपना आपा खो देते हैं। वे कई ऐसे जुमले सुनाएंगे, जो आपको परेशान करने के लिए पर्याप्त हैं। न चाहते हुए भी इसका आप पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मानसिक दबाव बन जाता है। यह स्थिति बहुत खतरनाक और जानलेवा साबित होती है। छात्रों पर इसका बहुत प्रभाव पड़ता है। छात्र इससे विचलित हुए बिना अपनी कोशिशें जारी रखें। किसी के कहे पर कभी न जाएं। आलोचनाएं यदि आपके हित में हैं तो उन्हें सकारात्मक रूप में स्वीकार करें, परन्तु उन्हें लेकर कभी मन में तनाव न पालें।

हौसला न डिगने पाए
इसमें दो राय नहीं कि पिछली गलतियां आपका कुछ न कुछ नुकसान करेंगी ही, लेकिन आपके अंदर जज्बा कायम है तो काफी कुछ सुधारा जा सकता है। बस, आप अपना हौसला न डिगने दें। हर रात के बाद सवेरा आता है। शुरू के एक या दो प्रश्न पत्र खराब हो भी गए तो इससे बात खत्म नहीं हो जाती। आप दोबारा वापसी कर सकते हैं। इसके अलावा अब तो एंट्रेंस का जमाना है। इंजीनियरिंग व मेडिकल के अलावा ग्रेजुएशन एक छात्र की तरह शेयर बाजार को सीखें और समझे कोर्स में दाखिले भी प्रवेश परीक्षा की राह से होकर गुजरते हैं। ऑनर्स कोर्स में ‘बेस्ट ऑफ फोर’ को काउंट किया जाता है।

कुछ सावधानियों का रखें ख्याल
अपेक्षा के अनुरूप जवाब न दे पाने या प्रश्न पत्र खराब होने पर दबाव छात्रों के सिर चढ़ कर बोलता है। यह तनाव कभी खुद के द्वारा तैयार की गई मुसीबतों को लेकर रहता है तो कभी-कभी दूसरों के द्वारा पैदा की जाने वाली परिस्थितियों के चलते होता है। प्रश्न पत्र खराब होने पर अकसर छात्र खुद को एक कमरे में कैद कर लेते हैं। ऐसा करके वे अपनी परेशानी को और अधिक बढम रहे होते हैं। सुबह-शाम टहलना व दिमाग रिफ्रेश करने के लिए कुछ देर तक टीवी देख लेना गलत नहीं है, पर उसके साथ ज्यादा चिपके रहना गलत है।

ज्यादा बदलाव से बचें
छात्रों को यदि लगता है कि उनके द्वारा तैयार रणनीति वर्तमान परिवेश में कारगर नहीं है तो वे अपनी रणनीति में बदलाव ला सकते हैं, लेकिन उन्हें यह बदलाव प्रश्न पत्रों के बीच गैप देख कर लाना चाहिए। हालांकि बहुत ज्यादा बदलाव भी ठीक नहीं है, क्योंकि इससे छात्र लीक से अलग हट कर चलने लगते हैं। ऐसे में उन्हें लगता है कि रिवीजन के दौरान कुछ जरूरी पॉइंट छूट रहे हैं। इससे फायदे के स्थान पर नुकसान होने लगता है। हां, यदि आपकी रणनीति चार घंटे पढ़ने की है तो इसे बढ़ कर छह अथवा सात घंटे करने में कोई बुराई नहीं है।

अभिभावकों को भी रखना होगा ध्यान
परीक्षा के दिनों में छात्र के नजदीक यदि कोई होता है तो वे माता-पिता या अभिभावक ही होते हैं। उनकी जिम्मेदारी पहले से काफी बढ़ जाती है। बच्चा उनसे जरूरत पूरी करने के अलावा और भी कई तरह के आत्मीय भाव की अपेक्षा रखता है। प्रश्न पत्र खराब होने की दशा में बच्चा पहले से ही परेशान होता है। ऐसे में वे बच्चे पर कोई अतिरिक्त दबाव न बनाएं। बच्चे को यह भरोसा दिलाएं कि अभी भी उसके पास काफी संभावनाएं हैं। इससे बच्चे को लगेगा कि पेरेन्ट्स उसके साथ हैं और वह बेहतर करने के लिए जी-जान लगा देगा।

कैसे बढ़ाएं आत्मविश्वास
क्षमता का भरपूर उपयोग करें
रिजल्ट को लेकर बेफिक्र रहें
स्मार्ट रिवीजन करते रहें
लिखने का भी अभ्यास करें
परिवारजनों को भरोसे में लें
कम्युनिकेशन गैप न आने दें

काउंसलर की राय
गलतियों का विश्लेषण करें

छात्रों को सबसे पहले यह देखना होगा कि उनसे गलतियां कहां हुई हैं। कई बार छात्र को प्रश्नों का जवाब तो मालूम होता है, लेकिन समय के अभाव में वे उन्हें लिख नहीं पाते। इसके अलावा यदि प्रश्न पत्र खराब हुए हैं तो उसका भी एक स्तर होता है। जैसे कि छात्र ने किसी प्रश्न पत्र में 90 प्रतिशत की उम्मीद की थी, लेकिन बाद में लगा कि 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक नहीं आएंगे। इस स्थिति में उसे खराब होना नहीं कहा जा सकता। छात्रों को कोशिश करनी चाहिए कि अगले प्रश्न पत्र में वे कुछ ऐसा करें कि पुराने प्रश्न पत्र के अंक भी बैलेंस हो जाएं। यह भी जरूरी नहीं कि छात्र ने जो गलतियां पहले प्रश्न पत्र में की थीं, दूसरे में भी करे। लेकिन यह तभी संभव है, जब उसे पता हो कि गलती कहां हुई। यदि कोई और समस्या है तो अभिभावकों, काउंसलरों व अध्यापकों को बताने में न हिचकें।
गीतांजलि कुमार, करियर काउंसलर

छात्र की राय
सफलता से बढ़ा आत्मविश्वास
मेरा शुरू से ही उद्देश्य सीपीएमटी व पीएमटी में सफल होने का था, इसलिए मैंने फिजिक्स, कैमिस्ट्री व बायोलॉजी विषयों की अच्छी तैयारी की। इसके अलावा इंग्लिश व फिजिकल एजुकेशन पर अपेक्षाकृत उतना समय नहीं दे पाया। मेरे मन में डर था कि कहीं नंबर कम आए तो मेरिट खराब हो जाएगी। पहले फिजिक्स का पेपर था। मैंने इसमें काफी बेहतर किया, जिससे आत्मविश्वास बढ़ गया। नतीजा यह हुआ कि बाकी प्रश्न पत्र भी अच्छे हो गए। इस दौरान पेरेंट्स ने काफी सहयोग किया। वे मेरे खानपान का ध्यान तो रखते ही थे, शाम को एक घंटा टहलाने भी ले जाते थे, ताकि मुझ पर बोर्ड परीक्षा को लेकर कोई दबाव न बने। बोर्ड में अच्छे नंबर आने के साथ-साथ मैंने प्रथम प्रयास में ही सीपीएमटी टॉप किया। एम्स व बीएचयू की मेडिकल प्रवेश परीक्षा में भी मेरा क्रमश: दूसरा व सातवां रैंक आया।
हर्षित अग्रवाल, (87%), सीबीएसई बोर्ड 2011

मनोविज्ञानी की राय
बाकी के पेपरों पर फोकस करें

सिर्फ एक या दो पेपरों पर छात्र की पूरी कुण्डली नहीं लिखी जा सकती। जो गुजर गया, उसे तो बदला नहीं जा सकता। छात्रों को अगले प्रश्न पत्रों पर ध्यान देने की जरूरत होती है। यदि वह बार-बार अपने खराब हुए प्रश्न पत्रों के बारे में सोचेगा तो उसके अगले प्रश्न पत्र भी खराब हो जाएंगे, इसलिए वह उन चीजों को जितना जल्दी हो सके, दिमाग से निकाल दे। उसे खुद से यह कमिटमेंट करना होगा कि जो गलती वह पूर्व में कर चुका है, उसे आगे नहीं दोहराएगा। जो प्रश्न पत्र बचे हैं, उन पर फोकस करेगा तो स्थिति संभल सकती है। इसके अलावा मैं छात्रों से एक बात और कहूंगा कि जिन विषयों के प्रश्न पत्र हो गए हैं और उनमें अपेक्षाकृत बेहतर नहीं कर पाए हैं तो उन्हें अपनी टेबल से हटा दें, नहीं तो जब-जब उन पर निगाह पड़ेगी, वे तनावग्रस्त हो जाएंगे।
डॉ. मनीष गुप्ता, मनोविज्ञानी, द्वारका, दिल्ली

Panchang 22 May 2022: आज के पंचांग से जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

Aaj ka panchang

ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष सप्तमी, राक्षस संवत्सर विक्रम संवत 2079, शक संवत 1944 (शुभकृत् संवत्सर), बैशाख | सप्तमी तिथि 01:00 PM तक उपरांत अष्टमी | नक्षत्र धनिष्ठा 10:47 PM तक उपरांत शतभिषा | इन्द्र योग 02:59 AM तक, उसके बाद वैधृति योग | करण बव 01:00 PM तक, बाद बालव 12:13 AM तक, बाद कौलव |

सूर्योदय 5:47 AM
सूर्यास्त 6:59 PM

मई 22 रविवार को राहु 05:21 PM से 07:00 PM तक है | 11:12 AM तक चन्द्रमा मकर उपरांत कुंभ राशि पर संचार करेगा |

मेष राशि
आज का दिन मिलाजुला परिणाम दे सकता है. इस समय आप को आराम का कम समय ही मिल पाएगा, किसी कारण से चीजें मेहनत अधिक करवा सकती हैं. कोई आपके दुख का कारण बन सकता है. कठिन मुद्दों पर वरिष्ठों का मार्गदर्शन भी मिल सकता है, इसलिए उनको ध्यान दें ओर पालन करने की कोशिश करें. व्यापार में लाभ की संभावना है, लेकिन शेयर बाजार को लेकर सतर्क रहने की आवश्यकता होगी. अगर आप निवेश करने जा रहे हैं तो सोच-समझकर निर्णय लेनी की आवश्यकता होगी. छात्रों को शिक्षक की सलाह के प्रति लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. अज का दिन कल के खास रहने वाला इसलिए तैयारी बना कर रखें.

वृषभ राशि
माता-पिता को छोटे बच्चों का विशेष ध्यान रखना होगा, सेहत को बिगड़ने से बचाने के लिए बाहरी भोजन से परहेज बेहतर होगा. अपच या गैस की शिकायत हो सकती है. अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखना सीखें. अपने फैसले सोच-समझकर लें, किसी को गुस्सा न करें. आपके करीबी लोग मुंह फेर सकते हैं इसलिए अपने को मजबूत स्थिति में रखना ही उपयुक्त होगा. कार्य करने वाले व्यापारियों के लिए दिन शुभ रह सकता है. इस समय व्यापारियों को कानूनी मामलों की जानकारी रखनी होगी ओर व्यवसाय से संबंधित कागज को पूरी तरह से ध्यान से रखें. यदि छात्र आज अध्ययन नहीं करना चाहते हैं तो वे आराम करना चुन सकते हैं. मन को शांत करने के साथ-साथ खुद को तरोताजा रखने से भी मदद मिलेगी.

मिथुन राशि
आज के दिन काम के लिए बाहर जाते समय, चल रही अपनी स्थिति से अवगत रहें. बिना सोचे समझे खरीदारी करने से फिजूलखर्ची होगी इसलि बचत पर ध्यान देने की जरूरत है. समाज सेवा से जुड़े लोगों को मान-सम्मान सकता है. अपने सामाजिक दायरे को बढ़ा सकते हैं और साथ ही शाम को किसी आयोजन में शामिल होने का अवसर मिल सकता है. कला विषयों में रुचि रखने वालों को अच्छे अवसर मिल सकते हैं. किसी से अहंकार में बात न करें. संयमित और नम्र रहें. व्यवसायी को कोई नया सौदा करने से पहले सभी आवश्यक तथ्यों की जांच करनी चाहिए. युवाओं और छात्रों के लिए दिन सामान्य रहेगा. रक्तचाप बढ़ सकता है जिससे असुविधा हो सकती है, समय पर डॉक्टर से संपर्क करना अनुकूल होगा.

कर्क राशि
प्रियजनों के साथ संचार की कमी रिश्तों में दूरियां पैदा कर सकती है. परिवार में सुख-शांति के लिए सभी का सहयोग करने की आवश्यकता होगी. चिंता किए बिना काम पर ध्यान दें और ध्यान रखें कि आपका प्रदर्शन भविष्य में आपके करियर को प्रभावित करने वाला होगा. कोई गलती होने पर आपको घर पर किसी की फटकार सुननी पड़ सकती है. इलेक्ट्रॉनिक सामान बेचने वालों की अच्छी बिक्री होगी. छात्रों को समय पर होमवर्क करने की आदत डालनी होगी. परीक्षा के लिए पूरे उत्साह के साथ अध्ययन करने का समय है. इस समय किसी मित्र के साथ लम्बी बातचीत में शामिल हो सकते हैं.

सिंह राशि
इस समय काम के प्रति सचेत रहना होगा, किसी काम को करते समय लापरवाही न बरतें. गंभीर मुद्दों पर अपनी राय सोच विचार कर ही सामने के समक्ष रखें क्योंकि कोई अन्य जल्दी से स्वीकार न करना चाहे. अपने आप पर भरोसा रखें, सबसे कठिन काम भी आसानी से पूरे हो सकते हैं. व्यवसायियों को बड़े निवेश की योजना बनानी चाहिए, आने वाले समय में बेहतर लाभ की संभावना है. बच्चों को सोच समझकर बोलने की जरूरत है. सेहत के मामले में पेट के रोग सामने आ सकते हैं, खान-पान में संतुलन रखें, मौसमी सब्जियों का अधिक सेवन लाभकारी रहेगा. प्रेमियों को झूठ से बचने की आवश्यकता हो रिश्ते में अलगाव हो सकता है.

कन्या राशि
आज अगर आप निवेश की योजना बना रहे हैं तो संभल कर आगे बढ़ना होगा. मित्र शेयर मार्किट में लाभ मिल सकता है. वैवाहिक संबंधों में सुधार होगा. अपने जीवनसाथी का सम्मान करें और उन्हें अपने निर्णय में शामिल करने की कोशिश करनी चाहिए. प्रेम में खराब रिश्ते को सुधारने में सफलता मिलेगी. मनचाहा काम मिलने से आपका मन प्रसन्न रह सकता है. वरिष्ठों के मार्गदर्शन से आपके प्रदर्शन में सुधार हो सकता है. कलात्मक कार्यों में भी रुचि बढ़ा सकते हैं. इस समय बर्बाद करने से बचें. स्टेशनरी व्यवसायियों को अच्छे लाभ मिल सकते हैं. खान-पान का काम करने वालों को लाभ सकता है. तकनीक के प्रयोग से छात्रों को महत्वपूर्ण कार्यों में सफलता प्राप्त हो सकती है. गपशप करने और परिवार-दोस्तों के साथ मस्ती कर पाएंगे.

तुला राशि
संबंधों में पारदर्शिता बनाए रखने का समय होगा, परिवर में किसी सदस्य के आने से आपके आरम में कुछ कमी भी होगी. अपने आस पास की चीजों के प्रति आप अधिक ध्यान देने वाले हैं नई वस्तुओं की खरीदारी का समय बन रहा है. निष्पक्षता अपने प्रेमी के साथ नही रख पाने से रिश्ता तनाव में आ सकता है. अचानक से कहीं जाने की स्थिति उभर सकती है. आज के दिन खाने -पीन एको लेकर आप कुछ बदलाव कर सकते हैं बच्चों की ओर से आप अधिक व्यस्त रहने वाले एक छात्र की तरह शेयर बाजार को सीखें और समझे हैं. अगर कोई काम अधूरा है तो अभी उसका पूरा होने में समय अधिक लगेगा, इसलिए योजनाबद्ध कार्य करने से प्रगति को पाएगा.

वृश्चिक राशि
नया काम शुरू करने के लिए अच्छा समय है. शेयर बाजार से जुड़े कारोबार में बेहतर लाभ की संभावना है. व्यवसायियों को दिमाग को सक्रिय रखते हुए निर्णय लेने होते हैं और कम अनुभवी या अनजान व्यक्ति के इशारे पर कोई बड़ा निवेश नहीं करना चाहिए. छात्रों के लिए दिन सामान्य रह सकता है शाम के समय चिंता अधिक रहेगी. बीमारियों और संबंधित दवाओं से अवगत रहें. बच्चों को साहसिक निर्णय लेने के लिए प्रेरित कर सकते हैं अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे. सामाजिक कार्यों में सक्रियता बढ़ाने की जरूरत है. ध्यान रखें कि विवादों से दूर रहना ही बेहतर होगा. कार्यक्षमता का पूरा उपयोग करने का समय होगा परिश्रम सफलता दिलाएगा.

धनु राशि
व्यापार करने वालों के लिए आज का दिन लाभ वाला रहेगा, कोई यात्रा अचानक से करनी पड़ सकती है. व्यापारियों को उत्पादों की गुणवत्ता के बारे में सावधान रहना चाहिए क्योंकि कोई समाना का बदलाव आपको परेशान भी कर सकता है. छात्रों को उच्च शिक्षा में बेहतरीन अवसर प्राप्त हो सकते हैं. नौकरी के लिए दूसरे विकल्प आजमाने की इच्छा अभी मन में रह सकती है. भोजन के कारण सीने में तकलीफ हो सकती है, मौसम को देखते हुए थोड़ी सावधानी रखनी होगी. अपने लिए दवा की व्यवस्था बना कर रखने की आवश्यकता होगी.

मकर राशि
आज के दिन अपने रहस्यों को लेकर सावधान रहना चाहिए, किसी के साथ साझा करना अनुकूल कम ही रहेगा. बिना कोई प्लानिंग किए काम की शुरुआत न करें. प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए आपको मानसिक रूप से काफी सक्रिय रहना होगा. करियर से जुड़ी परेशानियां आ सकती हैं, इन्हें नजरअंदाज करने से भविष्य में मुश्किलें बढ़ सकती हैं. कर्मचारियों के प्रति अच्छा रहें, अगर टीम में काम करते हैं तो सभी को एक साथ काम करने के लिए प्रेरित करते रहें. अपने लक्ष्य को लेकर बहुत सतर्क रहना होगा. फोकस न खोएं और छात्रों को परीक्षा और उच्च शिक्षा के प्रति गंभीर होना चाहिए.

कुंभ राशि
आज वाहन चलाते समय सावधान रहें, कुछ परेशानी हो सकती है. परिवार में किसी का प्रेम आपको मजबूती देने वाला होगा. अपनों के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें, उनकी जरूरतों की पूरी जिम्मेदारी लेना आपके लिए अच्छा होगा. दिन चुनौतीपूर्ण हो सकता है. कुछ धन खर्च होगा लेकिन परेशान न हों संध्या होते होते लाभ की प्राप्ति का योग भी मिलेगा. आर्थिक तंगी भी मन को परेशान करेगी. घर में सुख शांति के लिए परिवार के सदस्यों से अनावश्यक बातों पर बहस न करें. कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले एक सामान्य राय अवश्य ले लेना अच्छा रहेगा. आप के पास इस समय पैतृक संपत्ति का अच्छा लाभ मिल सकता है.

मीन राशि
घर के काम में आपको दूसरों का बहुत अधिक सहयोग न मिल पाए. किसी के साथ विवाद काम में बाधा डाल सकता है इसलिए वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखने का प्रयास करें. व्यापार में बड़े खर्च होने की संभावना है, अभी के समय भविष्य के लिए बचत बहुत जरूरी है. अगर आप अतिरिक्त वजन से परेशान हैं तो इसे कम करने के लिए एक कार्य योजना बनाएं. मानसिक चिंता कई महत्वपूर्ण कार्यों को बिगाड़ सकती है. तनाव को अपने ऊपर हावी न होने देना उचित विचार होगा. आधिकारिक कार्यों में आपको अधिक समय लेना पड़ सकता है.

साइटमैप

उपकरणों के लिए हफ़्तों के अराजक शोध के बाद, मुझे आखिरकार एक ऐसी जगह मिल गई, जहाँ मैं समीक्षाओं और अनुशंसाओं के लिए पूरी तरह से भरोसा कर सकता हूँ। महान कार्य टीम ईपी!

कैटा और उनके सहयोगियों ने मेरी वेबसाइट को प्रबंधित करने के लिए सर्वोत्तम टूल खोजने में मेरी मदद की, भले ही मैं तकनीकी से बहुत दूर हूं।

हमारे बारे में

ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म एक समीक्षा साइट है जो ऑनलाइन स्टोर निर्माण सॉफ्टवेयर के अच्छे, अच्छे, बुरे और बदसूरत को दिखाती है। हम पढ़ने में आसान समीक्षा प्रदान करने का प्रयास करते हैं जो आपको यह चुनने में मदद करेगी कि कौन सा ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म आपके लिए सही है। हम समीक्षा किए गए कुछ उत्पादों के साथ एक संबद्ध संबंध बनाए रखते हैं, जिसका अर्थ है कि यदि आप हमारी साइट से क्लिक करते हैं (हमारे पाठकों के लिए बिना किसी कीमत के) तो हमें बिक्री का प्रतिशत मिलता है। बेझिझक हमें फॉलो करें Twitter, टिप्पणी, सवाल, पर हमसे संपर्क करें [ईमेल संरक्षित] और आनंद लो।

Author Archives

अनुपम मिश्र। लेखक, संपादक, छायाकार। महाराष्ट्र के वर्धा में सरला और भवानी प्रसाद मिश्र के यहाँ सन् १९४८ में जन्म। दिल्ली विश्वविद्यालय से १९६८ में संस्कृत पढ़ने के बाद गाँधी शांति प्रतिष्ठान, नई दिल्ली, के प्रकाशन विभाग में सामाजिक काम और पर्यावरण पर लिखना शुरू किया। तब से आज तक वही काम, वहीं पर। गाँधी मार्ग पत्रिका का संपादन। कुछ लेख, कुछेक किताबें। "आज भी खरे हैं तालाब" को खूब प्यार मिला। कोई दो लाख प्रतियां छपी।

शिक्षा: कितना सर्जन, कितना विसर्जन

…. सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ एजूकेशन के 67वें स्थापना दिवस के अवसर पर दिनांक 19दिसंबर 2014 को दिया गया अनुपम मिश्र का भाषण। कोई एक सौ पचासी बरस एक छात्र की तरह शेयर बाजार को सीखें और समझे पहले की बात हैं। सन् 1829 की। कोलकाता के शोभाबाजार नाम की एक… Read More ›

पुरखों से संवाद

… मृतकों से संवाद और पुरखों से संवाद, ये दो अलग बातें हैं। इस अंतर में जीवन के एक रस का भास भी होता है। अनुपम मिश्र जो कल तक हमारे बीच थे, वे आज नहीं हैं। आज हम… Read More ›

भाषणः तकनीक कोई अलग विषय नहीं है

[ अनुपम मिश्र का ‘क’ कला संपदा एवं वैचारिकी द्वारा नागपुर में आयोजित सम्मेलन में दिया गया भाषण, दिसंबर दो हजार सात ] मेरा जो परिचय आपने सुना उसमें कोई तकनीकी शिक्षा का आपको आभास नहीं मिलेगा। फिर भी… Read More ›

दुनिया का खेला – भाषण

[16 अगस्त 2013 को साहित्य अकादमी में दिया अनुपम मिश्र का नेमिचंद स्मृति व्याख्यान] मैं उनसे कभी मिल नहीं पाया था। सभा गोष्ठियों में दूर से ही देखता था उन्हें। अपरिचय की एक दीवार थी। यह कोई ऊँची तो नहीं… Read More ›

साध्य, साधन और साधना

अगर साध्य ऊंचा हो और उसके पीछे साधना हो, तो सब साधन जुट सकते हैं अनुपम मिश्र यह शीर्षक न तो अलंकार के लिए है, न अहंकार के लिए। सचमुच ऐसा लगता है कि समाज में काम कर रही छोटी–बड़ी… Read More ›

रावण सुनाए रामायण

सनातन धर्म से भी पुराना एक और धर्म है। वह है नदी धर्म। गंगा को बचाने की कोशिश में लगे लोगों को पहले इस धर्म को मानना पड़ेगा। अनुपम मिश्र बिलकुल अलग–अलग बातें हैं। प्रकृति का कैलेंडर और हमारे घर–दफ्तरों… Read More ›

Sadhya, Sadhan, Sadhana

– Anupam Mishra Three Hindi words that guarantee the translator a headache. With a margin for semantic error, they represent, respectively: the ends, the means, and a penance-like labour to harness the means to achieve an end. I did not… Read More ›

प्रलय का शिलालेख

उत्तराखंड में हिमालय और उसकी नदियों के तांडव का आकार प्रकार अब धीरे–धीरे दिखने लगा है। लेकिन मौसमी बाढ़ इस इलाके में नई नहीं है। सन् 1977 में अनुपम मिश्र का लिखा एक यात्रा वृतांत सन् 1977 की जुलाई… Read More ›

जड़ें

जड़ों की तरफ मुड़ने से पहले हमें अपनी जड़ता की तरफ भी देखना होगा, झांकना होगा। यह जड़ता आधुनिक है। इसकी झांकी इतनी मोहक है कि इसका वजन ढोना भी हमें सरल लगने लगता है। बजाय इसे उतार फेंकने के,… Read More ›

भाषा और पर्यावरण

हमारी भाषा नीरस हो रही है क्योंकि हमारा माथा बदल रहा है। पर्यावरण की भाषा भी बची नहीं है। वह हिंदी भी है यह कहते हुए डर लगता है। पिछले ५०–६० बरस में नए शब्दों की एक पूरी बारात आई… Read More ›

रेटिंग: 4.30
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 848
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *