क्रिप्टो करेंसी

ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट

ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट
हाल ही में LG ने रोलेबल डिस्प्ले के साथ स्मार्टफोन कॉन्सेप्ट पेश किया था। बताया जा रहा है कि इस स्मार्टफोन का भी प्रोडक्शन रोका नहीं गया है। हालांकि ये मार्केट में लॉन्च होगा भी या नहीं ये साफ नहीं है।

एनएल डालमिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एंड रिसर्च – ग्लोबल बिजनेस लीडर्स बनाना – टाइम्स ऑफ इंडिया

एक दूरदर्शी और परोपकारी, श्री निरंजनलालजी डालमिया ने महसूस किया कि शिक्षा विकासशील व्यक्तियों में सबसे महत्वपूर्ण संपत्तियों में से एक है जो नैतिक आदर्शों के अनुरूप अपने पर्यावरण को बदलने में सक्षम होगी। उन्होंने तय किया कि इस मिशन को एक प्रगतिशील और स्वतंत्र संस्थान के निर्माण के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है, इस प्रकार अप्रैल 1982 में एनएल डालमिया एजुकेशनल सोसाइटी का जन्म हुआ। आज, यह कई गुना बढ़ गया है और उत्कृष्टता के 3 प्रतिष्ठित केंद्रों में विकसित हुआ है – एनएल डालमिया हाई स्कूल , एनएल डालमिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एंड रिसर्च (एनएलडीआईएमएसआर) और एनएल डालमिया कॉलेज ऑफ आर्ट्स, कॉमर्स एंड साइंस।

एनएल डालमिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एंड रिसर्च 1995 में स्थापित किया गया था और यूकेएएस (यूनाइटेड किंगडम प्रत्यायन प्रणाली) द्वारा आईएसओ 9001:2015 से मान्यता प्राप्त है, एनएएसी द्वारा ‘ए’ ग्रेड और एएसआईसी, यूके द्वारा ‘प्रीमियम’ का दर्जा दिया गया है। हमारा पीजीडीएम कार्यक्रम एआईसीटीई स्वीकृत है, राज्य स्तर पर ए ***, क्रिसिल द्वारा वर्ष 2018-19 में राष्ट्रीय स्तर पर ए ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट **, और एनबीए मान्यता प्राप्त और एआईयू अनुमोदित भी है। संस्थान कुछ नाम रखने के लिए एसोसिएशन टू एडवांस कॉलेजिएट स्कूल ऑफ बिजनेस (एएसीएसबी), यूएसए, यूरोपियन फाउंडेशन फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट (ईएफएमडी) और यूरोपियन फाउंडेशन फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट ग्लोबल नेटवर्क (ईएफएमडीजीएन), बेल्जियम का सदस्य है। एनएल डालमिया संस्थान भारत के सभी शीर्ष बी-स्कूलों में अग्रणी रहा है और इसकी अकादमिक उत्कृष्टता और उद्योग की प्रासंगिकता के कारण इसे पश्चिम क्षेत्र में तीसरे शीर्ष निजी बी-स्कूलों में स्थान दिया गया है।

बधाई हो!

आपने सफलतापूर्वक अपना वोट डाला

परिणाम देखने के लिए लॉगिन करें

यह संस्थान 1+1 ग्लोबल एमबीए प्रोग्राम प्रदान ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट करने के लिए युनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका के स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-पार्कसाइड से जुड़ा है। कार्यक्रम संरचना के अनुसार, पहला वर्ष (11 महीने) एनएल डालमिया में नींव कार्यक्रम है और दूसरा वर्ष यूडब्ल्यू-पार्कसाइड में है। UW-Parkside द्वारा प्रदान की गई MBA डिग्री AACSB मान्यता प्राप्त है।

छात्रों को भी ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट समाज के प्रति संवेदनशील बनाया गया है और उन्होंने कोंडगांव गांव को गोद लेकर एमएसआर (माई सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी) गतिविधियों जैसे नागरिक कार्यों को शामिल किया है, जिसमें साक्षरता, स्वच्छता और आजीविका के मुद्दों पर उच्च प्रगति की जाती है। विज्ञान भवन, नई दिल्ली में सीएसआर जर्नल एक्सीलेंस अवार्ड्स में संस्थान को शिक्षा के माध्यम से सामाजिक परिवर्तन को सशक्त बनाने के लिए समाज कल्याण और विकास पुरस्कार से सम्मानित किया गया। संस्थान को वरिष्ठ नौसेना अधिकारियों के लिए प्रबंधन के विभिन्न विषयों के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने और व्याख्यान देने के लिए आईएनएस हमला से जुड़े होने पर गर्व है। संस्थान ने महाराष्ट्र पुलिस के लिए ठाणे के मीरा-भायंदर नगर निगम क्षेत्र में 5 अलग-अलग परियोजनाएं भी शुरू की हैं।

पाक में महंगाई ने मचाई आफत- 1000 रु किलो मीट, 200 रु ली. दूध

पाकिस्तान ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट में महंगाई ने अपने पैर पसार लिये हैं. आलम ये है कि लोग रमजान के महीने में खाने-पीने तक को मजबूर हो गए हैं. इसके लिए सरकार को लोगों की कड़ी निंदा भी झेलनी पड़ रही है. पढ़ें पूरी खबर.

नई दिल्ली/इस्लामाबाद: रमजान का पाक महीना चल रहा है और पाकिस्तान में लोग खाने-पीने की चीजों के लिए हाल से बेहाल हैं. पाक में आर्थिक संकट थमने का नाम ही नहीं ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट ले रहा है. जिसके चलते सरकार लोगों तक सस्ती सामग्री मुहैया करवा पाने में असक्षम नजर आ रही है.

economic-crisis-in-pak etv bharat

ब्लूमबर्ग न्यूज के मुताबिक, पाकिस्तान में महंगाई का आलम ये है कि यहां सेब 400 रुपये किलो, संतरे 360 रुपये और केले 150 रुपये दर्जन बिक रहे हैं, तो वहीं दूध 190 रुपये लीटर तक जा पहुंचा है.

बंद होने के कगार पर LG Mobile की कंपनी, नहीं मिला कोई खरीदार

नईदिल्ली: पिछले कुछ सालों से लगातार कोरियन कंपनी LG इलेक्ट्रॉनिक्स अपने स्मार्टफोन बिजनेस ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट में संघर्ष कर रही है। कंपनी ग्राहकों के लिए नए Smartphone तो लॉन्च करती है, ​लेकिन मार्केट में इसका खरीददार कम होते नजर आ रहे है। ऐसे में कंपनी अपनी बिजनेस को लेकर काफी चिंतित है। वहीं LG अपने मोबाइल बिजनेस को शटडाउन कर सकती है।

इससे पहले कंपनी अपने बिजनेस को बेचने के लिए फैसला भी किया था। लेकिन ऐसा लगता है कि कंपनी को कोई खरीददार भी नहीं मिल रहा है।

गौरतलब है कि LG के पास ग्लोबल स्मार्टफोन मार्केट शेयर में सिर्फ 1% की ही हिस्सेदारी है। खरीदार न मिलने की वजह से कंपनी के पास अब कोई ऑप्शन नहीं बचा है। हालांकि इसके लिए ऑफिशियल अनाउंसमेंट कंपनी ने नहीं किया है, लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक अगले महीने कंपनी मोबाइल बिजनेस बंद करने का ऐलान कर सकती है।

एप्पल बना रही है सेल्फ ड्राइविंग आॅटोनोमस कार

इन एप्पल कारों में बेस्ट टेक्नोलॉजी के अलावा भविष्य के डिजाइन और स्टाइल का समावेश होगा.

स्मार्टफोन बाजार में अपने ट्रेंडसेटिंग हैंडसेट से धाक जमाने वाली अमेरिका की मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी एप्पल अब एक नया वेंचर शुरू करने जा रही है. मीडिया रिपोर्ट में जारी हलचल को कंफर्म करते हुए कंपनी के अधिकारियों ने पुष्टि की कि एप्पल अब एक गाड़ी विकसित करने की दिशा में काम कर रही है. कंपनी अपने प्रोडक्ट का क्लास मेंटेन करने के लिए जानी जाती है.

एप्पल अब एक आॅटोनोमस कार बनाने की दिशा में काम कर रही है और अपने खास इंजीनिय​रों को इस काम पर लगा भी दिया है. पिछले कई सालों से फोर्ड, जनरल मोटर्स, आॅडी और जगुआर लैंड रोवर भी अपनी आॅटोनोमस कार प्रोटेक्ट की दिशा में काम कर रही है और अब एप्पल भी इस मिशन में जुट गई है.

कंपनी ने इसके लिए कैलिफोर्निया में एप्पल कार या आॅटोनोमस कार की टेस्टिंग की इजाजत भी ले ली है. इसका मतलब एप्पल को अप्रैल में कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट आॅफ मोटर व्हीकल की तरह से तीन सेल्फ ब्लूमबर्ग मार्केट कॉन्सेप्ट ड्राइविंग व्हीकल्स की टेस्टिंग की इजाजत मिल गई है. यही नहीं हाल में कंपनी द्वारा शुरू की गई टेस्टिंग और मीडिया में आईं तस्वीरों को देख कर लग रहा है कि कुल छह मॉडल की टेस्टिंग जारी है.

वुहान लैब में काम करने वालों का मेडिकल रिकॉर्ड

हाल में कुछ रिपोर्ट्स में अमेरिकी इंटेलिजेंस के हवाले से कहा गया था कि नवंबर 2019 में वुहान लैब के तीन रिसर्चर्स बीमार पड़ गए थे, उनमे कोरोना के लक्षण थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। वहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो चीन सरकार ने दक्षिण पश्चिमी चीन स्थित एक कॉपर माइन में लोगों के आने जाने पर पाबंदी लगा दी थी। वुहान लैब ने 2012 में इस माइंस से कोरोना वायरस के सैंपल लिए थे, जिसके बाद 6 खननकर्मी "रहस्यमयी" सांस संबंधी बीमारी से पीड़ित पाए गए थे।

वुहान मार्केट से जुड़े दस्तावेज

चीन का दावा है कि कोरोना वायरस प्राकृतिक तौर पर पैदा हुआ है, लेकिन जांच के लिए वुहान गई WHO की टीम को इस बारे में पूरे रिपोर्ट नहीं मिले कि सी फ़ूड मार्केट में कौन-कौन से जानवर बेचे जा रहे थे। चीन उन सबूतों को भी पेश करने में नाकाम रहा, जिनसे इस बात की पुष्टि हो सके कि वायरस जानवरों से इंसानों में फैला है। WHO टीम ने चमगादड़ों के साथ अन्य जंगली जानवरों की सैंपलिंग करने और आगे जांच के लिए कहा था।

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 459
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *