निवेश योजना

स्वैप क्या हैं

स्वैप क्या हैं
कम जोखिम में कमाना हो ज्यादा मुनाफा तो स्वैप है सटीक रास्ता

स्वैप क्या हैं

ब्याज दर स्वैप

यह एक वित्तीय लेनदेन है जिसमें दो प्रतिपक्ष अनुबंध के पूरे समय में नकदी प्रवाह की स्ट्रीमस का विनिमय करने के लिए सहमत होते हैं जिसमें एक पक्ष एक अनुमानित मूलधन पर एक निश्चित ब्याज दर का भुगतान करता है और दूसरा उसी राशि पर एक अस्थायी दर का भुगतान करता है, जिसे फ्लोटिंग से फिक्स्ड और फिक्स्ड से फ्लोटिंग आईआरएस के रूप में जाना जाता है। आईआरएस फ़्लोटिंग टू फ़्लोटिंग भी हो सकता है जिसमें कोई एक फ्लोटिंग हों।

आईआरएस का मूल उद्देश्य घटकों के ब्याज दर जोखिम स्वैप क्या हैं को हेज करना है और उन्हें अपने संबंधित नकदी प्रवाह के लिए सबसे उपयुक्त संपत्ति/देयता प्रोफ़ाइल की संरचना करने में सक्षम बनाना है।

ब्याज-दर स्वैप अलग-अलग उत्पाद हैं जो सीधे मूल ऋण से जुड़े नहीं हैं, जिसके संबंध में ग्राहक ब्याज दर जोखिम को हेज करना चाहता है, लेकिन इसका उद्देश्य उन ऋणों पर भुगतान किए गए ब्याज की स्थिरता सुनिश्चित करना है।

ब्याज दर स्वैप पर सहमत होने पर, बैंक और ग्राहक परिवर्ती और निश्चित दर पर ट्रेडिंग करते है । ब्याज दर स्वैप के तहत ग्राहक बैंक से किसी भी परिवर्तनीय मार्क-अप को छोड़कर अपने ऋण (ऋणों) के तहत ब्याज की परिवर्तनीय दर प्राप्त करता है, और बाद में बैंक को ब्याज दर स्वैप के तहत सहमत एक निश्चित दर का भुगतान करता है। यह सेट-अप ग्राहक को ब्याज दरों में वृद्धि से बचाता है। ग्राहक को अभी भी किसी भी परिवर्तनीय मार्क-अप का भुगतान करना पड़ता है और ये ब्याज-दर स्वैप द्वारा कवर नहीं किए जाते हैं।

कम जोखिम में कमाना हो ज्यादा मुनाफा तो स्वैप है सटीक रास्ता

नई दिल्ली: ऐसे में जब देश-दुनिया भर के कमोडिटी बाजार की हालत पतली है, घरेलू एवं विदेशी समीकरणों ने बाजार में उहापोह की स्वैप क्या हैं स्थिति पैदा कर दी है और बाजार के हालात के मद्देनजर निवेशकों

India TV Business Desk
Updated on: June 17, 2015 15:00 IST

कम जोखिम में कमाना हो. - India TV Hindi

कम जोखिम में कमाना हो ज्यादा मुनाफा तो स्वैप है सटीक रास्ता

नई दिल्ली: ऐसे में जब देश-दुनिया भर के कमोडिटी बाजार की हालत पतली है, घरेलू एवं विदेशी समीकरणों ने बाजार में उहापोह की स्थिति पैदा कर दी है स्वैप क्या हैं और बाजार के हालात के मद्देनजर निवेशकों में में घबराहट का माहौल है हम आपको अपनी खबर में स्वैप रेश्यो के जरिए कम जोखिम के साथ ज्यादा मुनाफे वाले निवेश की रणनीति के बारे में बताएंगे। तो सबसे पहले जानिए क्या है स्वैप क्या हैं स्वैप ट्रेडिंग।

स्वैप ट्रेडिंग-

परपस्पर विरोधी मूलभूत गुणों वाली दो कमोडिटी पर एक समय में एक साथ निवेश करना स्वैप ट्रेडिंग कहलाता है। आसान शब्दों में समझे तो अगर बाजार का किसी कमोडिटी पर सकारात्मक असर बनता है तो जाहिर तौर पर इसका दूसरी कमोडिटी पर नकारात्मक असर पड़ेगा यानी आपको कम जोखिम के साथ ज्यादा मुनाफे के मौके मिल जाते हैं। यानी जिसमें लाभ होगा आप उसमें खरीदारी करेंगे और दूसरी जिसमें घाटा हो रहा है आप उसमें बिकवाली करने की कोशिश करेंगे।

मान लीजिए देश में इस साल जीडीपी को अच्छी ग्रोथ मिली है और इससे बेस-मेटल और क्रूड की कीमतों में तेजी के रुझान के साथ साथ सोने की कीमतों में गिरावट का माहौल है तो बेस-मेटल और क्रूड की मांग तो बढ़ेगी लेकिन लोगों के पसंदीदा स्वैप क्या हैं सोने की मांग में कमी भी देखने को मिलेगी। ऐसी स्थिति में स्वैप के जरिए सोने में बिकवाली और कॉपर और क्रूड में खरीदारी की रणनीति बनाकर अच्छे मुनाफे की उम्मीद की जा सकती है। हालांकि आपको यह ध्यान देना होगा कि स्वैप में खरीददारी और बिकवाली का सौदा किस कमोडिटी में किया जाए। इस निर्णय में दो कमोडिटी के बीच का कोट भी कारोबारी के लिए मददगार साबित हो सकता है।

अगली स्लाइड में पढ़िए क्या हैं स्वैप ट्रेडिंग के फायदे

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। स्वैप क्या हैं News in Hindi के लिए क्लिक करें बिज़नेस सेक्‍शन

इनपुट ऐरे 32, 51, 27, 85, 66, 23, 13, 57 पर बबल सॉर्ट का प्रथम पास पूर्ण करने के उपरांत आउटपुट लिस्ट क्या होगी?

बबल सॉर्ट सबसे बुनियादी सॉर्टिंग एल्गोरिदम है, और यह समय-समय पर आस-पास के घटकों का आदान-प्रदान करके संचालित होता है यदि वे क्रम से बाहर हैं। उच्च औसत और वर्स्ट-केस टाइम कॉम्प्लेक्सिटी के कारण यह दृष्टिकोण विशाल डेटा सेट के लिए उपयुक्त नहीं है।

पास 1:
एलिमेंट्स 32 और 51 की तुलना करें यहां 32 51 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 51, 27, 85, 66, 23, 13, 57
एलिमेंट्स 51 और 27 की तुलना करें यहां 51 27 से बड़ा है इसलिए स्वैप की स्वैप क्या हैं आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 85, 66, 23, 13, 57
एलिमेंट्स 51 और 85 की तुलना करें यहां 51 85 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 85, 66, 23, 13, 57
एलिमेंट्स 85 और 66 की तुलना करें यहाँ 85 66 से अधिक है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 66, 85, 23, 13, 57
एलिमेंट्स 85 और 23 की तुलना करें यहां 85 23 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 66, 23, 85, 13, 57
एलिमेंट्स 85 और 13 की तुलना करें यहां 85 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 66, 23, 13, 85, 57
एलिमेंट्स 85 और 57 की तुलना करें यहाँ 85 57 से अधिक है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
32, 27, 51, 66, 23, 13, 57, 85
कुल स्वैप हैं=5
पास 2:
एलिमेंट्स 32 और 27 की तुलना करें यहाँ 32 27 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 66, 23, 13, 57, 85
एलिमेंट्स 32 और 51 की तुलना करें यहां 32 51 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 66, 23, 13, 57, 85
एलिमेंट्स 51 और 66 की तुलना करें यहां 51 66 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 66, 23, 13, 57, 85
एलिमेंट्स 66 और 23 की तुलना करें यहां 66 23 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 23, 66, 13, 57, 85
एलिमेंट्स 66 और 13 की तुलना करें यहां 66 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 23, 13, 66, 57, 85
एलिमेंट्स 66 और 57 की तुलना करें यहाँ 66 57 से अधिक है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 23, 13, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=9
पास 3:
एलिमेंट्स 27 और 32 की तुलना करें यहां 27 32 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,एलिमेंट्स
27, 32, 51, 23, 13, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 32 और 51 की तुलना करें यहां 32 51 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 51, 23, 13, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 51 और 23 की तुलना करें यहां 51 23 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 23, 51, 13, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 51 और 13 की तुलना करें यहां 51 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 23, 13, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 51 और 57 की तुलना करें यहां 51 57 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 23, 13, 51, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=11
पास 4:
एलिमेंट्स 27 और 32 की तुलना करें यहां 27 32 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 32, 23, 13, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 32 और 23 की तुलना करें यहां 32 23 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 23, 32, 13, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 32 और 13 की तुलना करें यहां 32 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 23, 13, 32, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 32 और 51 की तुलना करें यहां 32 51 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
27, 23, 13, 32, 51, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=13
पास 5:
एलिमेंट्स 27 और 23 की तुलना करें यहां 27 23 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
23, 27, 13, 32, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 27 और 13 की तुलना करें यहां 27 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
23, 13, 27, 32, 51, 57, 66, 85
एलिमेंट्स 27 और 32 की तुलना करें यहां 27 32 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
23, 13, 27, 32, 51, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=15
पास 6:
एलिमेंट्स 23 और 13 की तुलना करें यहां 23 13 से बड़ा है इसलिए स्वैप की आवश्यकता है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
13, 23, 27, 32, 51, 57, 66, 85
23 और 27 एलिमेंट्स की तुलना करें यहाँ 23 27 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
13, 23, 27, 32, 51, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=16
पास 7:
एलिमेंट्स 13 और 23 की तुलना करें यहां 13 23 से कम है इसलिए किसी स्वैप की आवश्यकता नहीं है। इसलिए ऐरे बन जाता है,
13, 23, 27, 32, 51, 57, 66, 85
कुल स्वैप हैं=16
सॉर्टेड ऐरे:
13, 23, 27, 32, 51, 57, 66, 85

अतः सही उत्तर 32, 27, 51, 66, 23, 13, 57, 85 है।

Share on Whatsapp

Last updated on Oct 12, 2022

The RSMSSB has released the DV Schedule. The RSMSSB Computer Teacher DV will be conducted from 17th to 21st October 2022 and then from 27th October 2022 to 7th November 2022. Earlier, RSMSSB Computer Teacher Result and cut off was out. Candidates who have qualified the written exam will appear for the Document Verification round. The RSMSSB had announced 10157 vacancies for Basic Computer Teacher and Senior Computer Teacher posts. Candidates with a Graduate/ Post Graduate degree could apply for these posts.

वाइफ स्वैपिंग के बाद अब स्विंगिंग पार्टनर! सच जानकर हैरान रह जाएंगे आप

मेरी पत्नी तेरी और तेरी पत्नी मेरी के बाद, अब मेरा पति तेरा और तेरा पति मेरा चलन में है, बेहद खुले ख्यालातों वाले वेस्टर्न वर्ल्ड में रिश्तों के मायने लगातार कम हो रहे हैं, प्यार की पब्लिकली नुमाइश से शुरू हुआ ये सिलसिला अब वाइफ या हस्बैंड स्वैपिंग तक पहुंच गया है जिसका मतलब है शारीरिक संबंधों के लिए किसी दूसरे जोड़े के साथ अपने पति-पत्नी की अदला-बदली। ऐसे वैवाहिक जोड़े स्विंगर्स के नाम से जाने जाते हैं, लेकिन क्या अपने निजी स्वार्थ के लिए रिश्तों की एहमियत ताक पर रखने वाले लोगों की ज़िंदगी कभी खुशहाल रह सकती है? अगर आप सोच रहे हैं कि ऐसे लोग आंतरिक तौर पर कभी एक-दूसरे के साथ खुश नहीं रह सकते या उन्हें आत्मिक संतुष्टि नहीं मिलती तो आप बिलकुल गलत सोच रहे हैं।

ज़्यादातर स्विंगर्स ये दलील देते हैं कि स्वैप करने से उनका वैवाहिक जीवन स्पाइसी और खुशहाल रहता है, इतना ही नहीं वो एक-दूसरे के साथ काफी सुरक्षित महसूस करते हैं और ईमानदार भी रहते हैं। पार्टनर स्वैपिंग के बारे में ऐसा माना जाता है कि वो शादी के कई साल एक-दूसरे के साथ बिताने के बाद बोर हो जाते हैं और जीवन में कुछ नया चाहते हैं। पार्टनर की अदला-बदली करने से उन्हें नयापन मिलता है। ऐसे जोड़ों का मानना है कि एक से ज़्यादा लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाने में उन्हें कोई बुराई नजर नहीं आती, बल्कि ये बहुत रोचक और दिलचस्प है।

वेस्टर्न कंट्रीज़ की देखा-देखी भारत में भी स्वैप क्या हैं अब स्विंगर्स या ऐसे दंपत्ति जो यौन-संबंधों के लिए आपस में पति या पत्नी की अदला-बदली करते हैं कि तादाद लगातार बढ़ती जा रही है, आकर्षण और सुंदरता पर निर्भर ये फूहड़ व्यवस्था दिनोंदिन अपने पैर पसारती जा रही है। भारतीय परिवेश में विवाह एक ऐसी सम्मानजनक व्यवस्था है जो महिला और पुरुष को आजीवन एक-दूसरे से जोड़कर रखती है, लेकिन इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि निजी संबंध होने के बावजूद इसे समाज, परिवार और धर्म सभी का संरक्षण प्राप्त होता है। ऐसे हालातों में सिर्फ अपनी शारीरिक फैंटेसी को पूरा करने के लिए अपने जीवन साथी की अदला-बदली करना बेहद गलत ही माना जाएगा।

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 144
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *