निवेश योजना

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी क्या है?

क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी क्या है?
हिन्दुस्तान 17-11-2022 हिन्दुस्तान टीम

What is Digital Rupee: जानें क्या है डिजिटल करेंसी, क्या क्रिप्टोकरेंसी से है अलग, जानें इसके फायदे

भारत (India) की पहली डिजिटल करेंसी यानी डिजिटल रुपया (Digital Rupee) आ रहा है। डिजिटल रुपया क्रिप्टोकरेंसी से बिल्कुल अलग है।

भारत (India) की पहली डिजिटल करेंसी यानी डिजिटल रुपया (Digital Rupee) आ रहा है। ये एक भौतिक मुद्रा नहीं है बल्कि भारत का रुपया डिजिटल रूप में उपलब्ध होगा। ये आपको जेब में रखने की जरूरत नहीं है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भारत की पहली डिजिटल मुद्रा यानी डिजिटल रुपया का पहला पायलट परीक्षण शुरू कर दिया है।

ई-आरयूपीआई एक नकद और संपर्क रहित भुगतान मोड है। जो क्यूआर कोड और एसएमएस स्ट्रिंग पर आधारित है, जो ई-वाउचर के रूप में काम करता है। उपयोगकर्ता को इस सेवा के तहत भुगतान करने के लिए न तो कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप और न ही इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस की आवश्यकता होगी। इससे ज्यादा से ज्यादा लोग डिजिटल रुपये का इस्तेमाल कर सकेंगे।

कैसे है डिजिटल रुपया क्रिप्टोकरेंसी से अलग

डिजिटल रुपया क्रिप्टोकरेंसी से बिल्कुल अलग है। किसी भी संगठन या सरकार द्वारा किसी भी प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी की निगरानी नहीं की जाती है। बाजार के व्यवहार के कारण उनके मूल्य में तेजी से उतार-चढ़ाव होता है। लेकिन भारतीय डिजिटल करेंसी में ऐसा कुछ नहीं है। बिटकॉइन से भी अलग है। इस रुपया के जरिए आप रोजमर्रा के लेन-देन भी आसानी से कर सकते हैं।

डिजिटल करेंसी का क्या है फायदा

भारत में रुपया बदला है और अब आरबीआई डिजिटल करेंसी लेकर आ रही है, जिसे ई-रुपया भी कहा जा सकता है। इसके आने के बाद आपको कैश अपने पास रखने की जरूरत नहीं होगी। इसे मोबाइल वॉलेट में रख सकते हैं और सात ही इसका आसानी से इस्तेमाल भी कर सकते हैं, सबसे बड़ी बात इस करेंसी को छिपाया नहीं जा सकता है, क्योंकि इससे आसानी से ट्रैक किया जा सकता है। ऐसे में भ्रष्टाचार पर भी रोक लगेगी।

Digital Currency : डिजिटल करेंसी या डिजिटल रुपया क्या है ? सम्पूर्ण जानकारी

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2022 को केंद्रीय बजट पेश करते हुए डिजिटल रुपए बारे में बताया जो कि एक CBDC (सेंट्रल बैंक डिजिटल करंसी) होगी। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के द्वारा बहुत पहले ही डिजिटल करेंसी को शुरू करने का संकेत दे दिया गया था। दुनिया भर के दूसरे केंद्रीय बैंक भी अपने देश में डिजिटल करेंसी को लॉन्च करने के प्रोसेस में है, ये भारत का पहला डिजिटल रुपया होगा और ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि कुछ क्षेत्र में यह बहुत ही क्रांतिकारी साबित हो सकता है।

Table of Contents

क्या है डिजिटल करेंसी ?( What is Digital Currency?)

डिजिटल करेंसी एक प्रकार का ऐसा पैसा होगा जिसे आप छू या देख नहीं पायंगे, ये बस आपको एक इलेक्ट्रॉनिक रूप में उपलब्ध होगा अर्थात जैसे आप अपने अकाउंट से किसी दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करते हैं तब आप इसको अपने मोबाइल या कंप्यूटर ऑनलाइन लेन- देन में इस्तेमाल करते हैं या फिर आपको कुछ ख़रीदना है, बेचना है तो आप इलेक्ट्रॉनिक रूप में इसका आदान-प्रदान करते हैं बिलकुल ऐसे ही क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी क्या है? ये काम करेगा लेकिन इसके लिए किसी बैंक अकाउंट या वॉलेट की आवश्यकता नहीं होगी।

कैसे होगा इसके द्वारा लेन-देन ? (How will the transaction be done through)

ये एक प्रकार से देश की क़ानूनी मुद्रा होगी जो कि क्रिप्टो करेंसी की ही तरह ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पे आधारित होगी। आप जब भी चाहे इसे मुद्रा में बदल कर अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करके निकल सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको किसी तरह के बैंक अकाउंट की या वॉलेट की जरुरत नहीं होगी न ही आप इसको नोट कि तरह अपनी जेब में नहीं रख पाएंगे बाकी सभी ट्रांसक्शन लेन देन में ये सक्षम होगी।

उदहारण के लिए आपने किसी को १000 डिजिटल रुपया ट्रांसफर किया तब उसको डिजिटल रूप में ही वो प्राप्त हो जायेगा। अब वो चाहे तो इस डिजिटल रुपये को अपनी बैंक में ट्रांसफर कर सकता है और नकदी के रूप में एटीएम या बैंक से निकाल सकता है, लेकिन जब तक ये डिजिटल रूपये के रूप में उसके पास है वो इसे नहीं निकाल सकता।

किस तरह अलग है डिजिटल करेंसी, क्रिप्टो करेंसी से ?(How is digital currency different from crypto currency?)

डिजिटल करेंसी और क्रिप्टो करेंसी का सबसे बड़ा अंतर है कि डिजिटल करेंसी को RBI द्वारा रेगुलेट किया जायेगा लेकिन क्रिप्टो करेंसी किसी भी प्रकार के रेगुलेशन से मुक्त है। यही वजह है कि डिजिटल करेंसी पूरी तरह सुरक्षित होगी और क्रिप्टो करेंसी को सुरक्षा की दृस्टि से देखा जाये तो ये पूर्णतया असुरक्षित है ये किसी भी व्यक्ति को रातों-रात अर्श से फर्श पर और फर्श से अर्श पर ला सकती है।
इसके अलावा ये एक स्थिर रूप में होगी इसके मूल्य में किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं होगा, दूसरी ओर क्रिप्टो करेंसी लगातार उतार चढ़ाव के अधीन है।

गणित से डराएं नहीं, खेल-खेल में पढ़ाएं

हिन्दुस्तान लोगो

हिन्दुस्तान 17-11-2022 हिन्दुस्तान टीम

एसोसिएशन ऑफ इंडियन प्रिंसिपल और मैटिफिक के वेबिनार में विशेषज्ञों ने रखी राय

400 लोगों ने लिया भाग, इनमें सौ प्रिंसिपल और सौ संस्थानों के प्रमुख-कोर्डिनेटर थे

नई दिल्ली, हिन्दुस्तान ब्यूरो।

गणित का डर बच्चों के दिमाग पर इस कदर हावी हो जाता है कि वो इससे दूर भागने लगते हैं। घर और स्कूल में वे इससे पीछा छुड़ाने में लगे रहते हैं। इससे वे गणित फोबिया से ग्रसित हो जाते हैं। लेकिन, देशभर के तमाम प्रिंसिपल और शिक्षा विशेषज्ञ मानते हैं कि खेल-खेल में पढ़ाने और कंसेप्ट स्पष्ट करने से शिक्षक बच्चों का यह डर दूर कर सकते हैं।

एसोसिएशन ऑफ इंडियन प्रिंसिपल और मैटिफिक द्वारा आयोजित वेबिनार में गुरुवार को जीडी गोयनका स्कूल, इंदिरापुरम की प्रिंसिपल तरुणा कपूर, द श्रीराम यूनिवर्सल स्कूल पालवा की प्रिंसिपल राधिका श्रीनिवासन और मैटिफिक इंडिया के चीफ बिजनेस ऑफिसर साहिल कपूर ने इस पर अपनी राय रखी और अपने अनुभव भी साझा किए। वेबिनार में प्राइमरी के छात्रों के बीच गणित का फोबिया, इसके दीर्घकालिक प्रभाव और इससे लड़ने में मदद पर चर्चा की गई।

बच्चों से ज्यादा अपेक्षा करना गलत

कार्यक्रम का संचालन कर रहीं स्किल एंड रिफॉर्म प्राइवेट लिमिटेड की निदेशक चेतना सबरवाल के सवाल पर तरुणा कपूर ने कहा कि स्कूल में गणित की कक्षा शुरू होते ही कई बच्चे बहाना बनाने लगते हैं। ऐसे बच्चों का डर प्रोत्साहन, धैर्य और नवाचार के जरिये दूर किया जा सकता है। उन्हें खेल-खेल में सिखाने की जरूरत है। उनमें जोश भरना होगा कि वे यह कर सकते हैं। हम करेंगे और नहीं करने का कोई कारण ही नहीं है। सकारात्मक सोच, धैर्य और रचनात्मक कार्य के जरिये उन्हें प्रोत्साहित करना होगा। एक बच्चे की दूसरे से तुलना नहीं करें और दबाव नहीं डालें। अभ्यास करने से बदलाव आने लगेगा। अच्छा माहौल देंगे तो उनका डर निकल जाएगा। मेरी नजर में बच्चों से ज्यादा अपेक्षा करना गलत है।

छात्र हितैषी होना होगा

राधिका श्रीनिवासन ने कहा कि बच्चों में इस तरह की समस्या घर से ही शुरू हो जाती है, जब परिजन ही कहते हैं कि गणित पढ़ना मुश्किल है। यह बहुत आम है। ऐसे में डिजिटल टूल, कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), और खेल-खेल में पढ़ाई बच्चों के लिए काफी मददगार साबित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि फोबिया बड़ों में भी क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी क्या है? होता है। हमें शिक्षक के रूप में छात्र हितैषी होना होगा। अच्छा व्यवहार करके और प्यार से उन्हें सिखाना होगा। फोबिया से निपटने के लिए हमेशा आकलन करते रहना होगा। राधिका ने मैथ का मतलब समझाया। कहा एम-मीनिंग ऑफ कंसेप्ट को समझना होगा। ए-एडॉप्ट टीचिंग एंड लर्निंग, टी-ट्रेंड योरसेल्फ एंड टीचर और एच-हैव फेथ एंड पेशेंस।

मैटिफिक मैथ लीग में सभी भाग लें

साहिल कपूर ने कहा कि हमें चौतरफा ध्यान देना होगा। खेल-खेल में पढ़ाई परिणाम में भी मदद करते हैं। औसत से नीचे वाले बच्चे गणित कक्षा में फंसा महसूस करते हैं। उनका मूल्यांकन करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि बच्चों को अपने विचार साझा करने देना चाहिए। साहिल ने कहा मैटिफिक मैथ लीग में एक कक्षा से पांच ही नहीं बल्कि सभी छात्रों को भाग लेना चाहिए। इसके बाद शिक्षक भी सभी बच्चों की रिपोर्ट रखे। पीपीटी भी इसके लिए मददगार साबित होता है।

गणना में तेज होना काफी नहीं

चेतना सबरवाल ने कहा कि कई बच्चे गणना में बहुत तेज होते हैं। क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी क्या है? इसका मतलब यह नहीं कि वह बहुत अच्छा शिक्षक या गणितज्ञ है। कई बार बच्चों को उनके अभिभावक या दादा-नाना टेबल (पहाड़े) सिखा देते हैं। यह कुछ हद तक मदद कर सकता है लेकिन गणित सीखने के लिए यही काफी नहीं है।

सबसे खूबसूरत 24 नवंबर शिक्षक दिवस संदेश और बातें

PTTBank EFT सिस्टम को सेंट्रल बैंक सिस्टम में एकीकृत किया गया था

पीटीटी हमारे देश में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली कार्गो कंपनियों में से एक है। Ptt, जो एक दिन में दसियों हजार कार्गो डिलीवर करती है, एक बहुत ही विश्वसनीय कंपनी है। पीटीटी इस प्रतिष्ठा को घरेलू शिपमेंट के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय कार्गो शिपमेंट में बनाए रखता है। पहले [अधिक . ]

कोरोनरी बाईपास सर्जरी क्या है?

अपने सपनों का बेडरूम डिजाइन करें

एक कठिन और व्यस्त दिन के बाद आराम करने के लिए बेडरूम एक आदर्श स्थान है। यहां आप आराम कर सकते हैं, शांति से कोई किताब पढ़ सकते हैं या बस लेट कर टीवी सीरीज देख सकते हैं। इसलिए, अपने शयनकक्ष को प्रस्तुत करते समय, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यह आपकी सभी जरूरतों को पूरा करे। [अधिक . ]

रेटिंग: 4.53
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 408
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *