शुरुआती लोगों के लिए अवसर

इक्विटी पर व्यापार क्या है?

इक्विटी पर व्यापार क्या है?
What do you mean by shares and how does it work?

Equity- क्या होती है इक्विटी

क्या होती है इक्विटी?
इक्विटी (Equity) को आम तौर पर शेयरधारकों की इक्विटी या निजी तौर की कंपनियों के लिए मालिकों की इक्विटी कहा जाता है। इक्विटी उस धन की राशि का प्रतिनिधित्व करती है जो कंपनी के शेयरधारकों को उस स्थिति में वापस कर दी जाएगी, अगर कंपनी के सारे एसेट लिक्विडेट हो जाते हैं और लिक्विडेशन के मामले में कंपनी के सारे ऋण चुका दिए जाते हैं। अधिग्रहण के मामले में यह कंपनी सेल्स की वैल्यू है, जिसमें कंपनी के ऊपर किसी देनदारी को सेल के साथ ट्रांसफर नहीं किया गया है। इसके अतिरिक्त, शेयरधारक इक्विटी किसी कंपनी की बुक वैल्यू का प्रतिनिधित्व कर सकती है। इक्विटी को कभी कभार पेमेंट-इन-काइंड के रूप में ऑॅफर किया जा सकता है। यह कंपनी के शेयरों के यथानुपात (प्रो राटा) स्वामित्व का भी प्रतिनिधित्व करती है। इक्विटी कंपनी के बैलेंस शीट पर पाई जा सकती है और यह कंपनी के वित्तीय स्वास्थ्य का अनुमान लगाने के लिए तैनात सर्वाधिक आम आंकड़ों में से एक है।

हम इक्विटी को किसी कंपनी या एसेट में अवशिष्ट स्वामित्व या उस एसेट से संबंधित सभी ऋणों को घटाने के बाद की एक डिग्री के रूप में भी सोच सकते हैं। इक्विटी कंपनी में शेयरधारकों की हिस्सेदारी का प्रतिनिधित्व करती है, जिसकी कंपनी की बैलेंस शीट पर पहचान की जाती है। इक्विटी की गणना किसी कंपनी की कुल देनदारियों को घटाने के बाद उसके कुल एसेट के रूप में की जाती है और इसका उपयोग आरओई जैसे प्रमुख वित्तीय अनुपातों में किया जाता है। कुल एसेट, देनदारियों और कुल इक्विटी के योग के बराबर होगा।

निवेशकों द्वारा इक्विटी का किस प्रकार उपयोग किया जाता है?
इक्विटी निवेशकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण अवधारणा है। उदाहरण के लिए, कंपनी पर गौर करते समय निवेशक यह निर्धारित करने के एक बेंचमार्क के रूप में शेयरधारकों की इक्विटी का उपयोग कर सकता है कि क्या कोई विशिष्ट खरीद कीमत महंगी है। अगर उस कंपनी ने पारंपरिक रूप से 1.5 की बुक वैल्यू की कीमत पर ट्रेड किया है तो निवेशक उस वैल्युएशन से अधिक भुगतान करने पर दोबारा सोचेगा, जब तक वे यह नहीं सोचते कि कंपनी की संभावनाओं में मूलभूत रूप से सुधार आया है।

शेयर से आपका क्या तात्पर्य है और यह कैसे काम करता है?

What do you mean by shares and how does it work?

एक शेयर को किसी कंपनी या वित्तीय परिसंपत्ति में ब्याज के स्वामित्व की इकाई के रूप में वर्णित किया जा सकता है। सरल शब्दों में, जब कोई व्यक्ति किसी कंपनी के शेयरों का अधिग्रहण करता है, तो वे उस कंपनी के मालिक बन जाते हैं। ये शेयर जोखिम का एक तत्व लेकर चलते हैं लेकिन उच्चतम रिटर्न देते हैं।

उदाहरण के लिए: यदि किसी कंपनी के 10,000 शेयर बकाया हैं और किसी व्यक्ति ने उस कंपनी के 1,000 शेयर खरीदे हैं, तो यह माना जाएगा कि वह उस कंपनी की संपत्ति का 10% हिस्सा होगा। (1,000 / 10,000 = 10%)

ऐसे शेयरों के मालिकों को शेयरधारकों के रूप में जाना जाता है।

शेयर अपने धारकों को मुनाफे के समान वितरण के लिए, लाभांश के रूप में, यदि कोई हो, व्यापार संगठन द्वारा घोषित किए जाने के हकदार हैं। हालांकि, शेयर कंपनी के दिन-प्रतिदिन के परिचालन पर शेयरधारकों को कोई प्रत्यक्ष नियंत्रण प्रदान नहीं करते हैं।

निचे आप देख सकते हैं हमारे महत्वपूर्ण सर्विसेज जैसे कि फ़ूड लाइसेंस के लिए कैसे अप्लाई करें, ट्रेडमार्क रेजिस्ट्रशन के लिए कितना वक़्त लगता है और उद्योग आधार रेजिस्ट्रेशन का क्या प्रोसेस है .

कंपनी का मूल्य शेयर बाजार में उसके बाजार मूल्य के आधार पर मापा जाता है। एक ठोस, अच्छी तरह से प्रबंधित कंपनी अपने शेयर की कीमतों को उच्च रखने का एक अच्छा मौका है।

शेयर बाजार में शेयर जारी करने के लिए प्राथमिक कारण:

  • नया वित्त बनाने या पूंजी जुटाने के लिए
  • कंपनी के बाजार मूल्य का निर्धारण करें
  • निवेशकों द्वारा शेयरों के व्यापार के लिए एक माध्यम की स्थापना करें
  • कंपनी के व्यवसाय की रूपरेखा को बढ़ाएं।

शेयरों के प्रकार जारी किए गए:

आमतौर पर दो प्रकार के शेयर होते हैं जो कंपनी द्वारा जारी किए जाते हैं: साधारण या इक्विटी शेयर और वरीयता शेयर।

साधारण या इक्विटी शेयरों की विशेषताएं:

    • यह शेयरधारकों को कंपनी की वार्षिक आम बैठक में वोट करने का अधिकार देता है
    • इक्विटी शेयरों पर लाभांश की दर तय नहीं है और लाभ के स्तर के अनुसार भिन्न होती है
    • वे शेयरधारकों को भुगतान किए जाने के बाद लाभांश और पूंजी के भुगतान के हकदार हैं

    Features of Preference Shares:

    • Preference shareholders do not have any voting rights.
    • The rate of dividend on preference shares is fixed and receives fixed periodic interest income.
    • They enjoy priority on payment of dividends over equity shareholders.

    वरीयता शेयरों की विशेषताएं:

    शेयर बाजार में शेयरों का कारोबार होता है; इसलिए, शेयरों को स्टॉक भी कहा जाता है। यह एक तरह का सट्टा कारोबार है।

    शेयरों से निपटने में दो बुनियादी लेनदेन शामिल हैं- खरीदना और बेचना। इस तरह के शेयर पैसे बनाने के लिए स्टॉक एक्सचेंज में खरीदे और बेचे जा सकते थे।

    मूल सिद्धांत इस अवधारणा में निहित है कि किसी को कम कीमत पर खरीदना चाहिए और अधिक कीमत पर बेचना चाहिए, दोनों के बीच के अंतर को वित्तीय लाभ कहा जाता है। शेयर बाजार बहुत कुछ एक नीलामी घर की तरह है जहां व्यापार किया जाता है, और कीमतों पर बातचीत की जाती है। सही निर्णय लेने के लिए व्यापार और निवेश को अनुशासित तरीके से किया जाना चाहिए।

    प्रबंधन ने कंपनी को तोड़ने का फैसला किया है।

    यदि कोई भी व्यक्ति कंपनी के शेयर खरीदने के लिए इच्छुक है, तो वे एक शेयर को रु। हैं खरीद सकते हैं। 100 / – या पांच शेयर रु। 500 / – रुपये मर्जी से।

    अब, अगर कुछ समय बाद, जब शेयरों की कीमतों में वृद्धि होती है, तो यह मौद्रिक लाभ बनाने के लिए शेयरों को बेचने के लिए खरीदार की ओर से एक विवेकपूर्ण निर्णय होगा।

    परंपरागत रूप से, ट्रेडिंग का उपयोग भौतिक शेयर प्रमाणपत्रों के माध्यम से किया जाता था, हालांकि, बदलते समय के साथ, इन दिनों, शेयर बाजार इलेक्ट्रॉनिक रूप से काम करता है।

    शेयरों की खरीद और बिक्री या तो एक ऑनलाइन ब्रोकर, एक पारंपरिक स्टॉकब्रोकर या एक निवेश प्रबंधक से परामर्श के माध्यम से की जा सकती है।

    जब कोई भी व्यक्ति किसी कंपनी के शेयर खरीदता है, तो उन्हें पैसे के बदले शेयर मिलते हैं जो वे कंपनी को देते हैं। अब, इन कंपनियों में दो प्रकार के लोग हो सकते हैं – एक व्यापारी या एक निवेशक।

    ट्रेडर एक ऐसा व्यक्ति है जो अल्पकालिक लाभ के उद्देश्य से अपनी या किसी भी फर्म के शेयर खरीदता और बेचता है।

    वह मूल्य पैटर्न, आपूर्ति और मांग सिद्धांत, और बाजार की भावनाओं का अध्ययन करेगा और फिर अपने पैसे को शेयरों में डाल देगा।

    दूसरी ओर, एक निवेशक लंबी अवधि के मुनाफे के लिए शेयरों की खरीद और बिक्री में खुद को एक दलाल के माध्यम से संलग्न करता है।

    वह कंपनी के नकदी प्रवाह और वित्तीय ताकत पर विचार करेगा और उसके आधार पर कंपनी के शेयर जो अच्छे मूल्य का प्रतिनिधित्व करेंगे, केवल उन्हीं शेयरों में वह निवेश करेगा।

    अपना पैसा अच्छी तरह से लगाएं

    शेयरधारकों द्वारा खरीदे गए और निवेश किए गए शेयरों का कारोबार कंपनियों द्वारा शेयर बाजार में किया जाता है। कई बाजार कारकों के आधार पर शेयरों की कीमतों में उतार-चढ़ाव होता है। सिर्फ एक कंपनी में शेयर रखना बहुत जोखिम भरा है। अगर वह कंपनी किसी कारण से मुसीबत में पड़ गई, तो हो सकता है कि उसका सारा पैसा खत्म हो जाए। निवेश घोटाले में फंसने से बचें और कभी भी उच्च और निम्न बेचने की गलती न करें।

    उचित स्टॉक कंपनी के अनुसंधान करने और वित्तीय सलाह लेने के बाद सबसे अच्छा विकल्प बनाने के लिए व्यापारी और निवेशक की जिम्मेदारी है। अनुसंधान इस तरह का होना चाहिए ताकि जोखिम कारक कम हो और लाभ अधिक हो।

    स्टार्टअप के लिए सरकार का बड़ा फैसला, अब लोन को इक्विटी में बदलने के लिए मिलेगा 10 साल तक का मौका

    कंवर्टिबल नोट्स के जरिए स्टार्टअप्स शुरुआती चरण में फंडिंग जुटाते हैं. कंवर्टिबल नोट्स इक्विटी में बदलने का लचीला विकल्प देते हैं.

    स्टार्टअप के लिए सरकार का बड़ा फैसला, अब लोन को इक्विटी में बदलने के लिए मिलेगा 10 साल तक का मौका

    TV9 Bharatvarsh | Edited By: शशांक शेखर

    Updated on: Mar इक्विटी पर व्यापार क्या है? 20, 2022 | 3:34 PM

    स्टार्टअप इकोसिस्टम (Indian Startups) को मजबूत करने के लिए मोदी सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है. अब स्टार्टअप के लिए कंपनी में किए गए लोन निवेश (debt investments) को इक्विटी शेयरों में बदलने की समय सीमा को बढ़ाकर 10 साल कर दिया गया है. सरकार के इस फैसले से उभरते उद्यमियों को कोविड-19 महामारी के प्रभाव से बाहर निकलने में मदद मिलेगी. उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (DPIIT) के एक नोट से यह जानकारी मिली है. अभी तक परिर्वतीय नोट्स (convertible notes) को इन्हें जारी करने की तारीख से पांच साल तक इक्विटी शेयरों में बदलने की अनुमति थी. अब इस समयसीमा को बढ़ाकर 10 साल कर दिया गया इक्विटी पर व्यापार क्या है? है.

    कोई निवेशक स्टार्टअप में परिवर्तनीय नोट (convertible notes) के जरिये निवेश कर सकता है, जो एक प्रकार का बॉन्ड/लोन उत्पाद होता है. इस निवेश में निवेशक को यह विकल्प दिया जाता है कि यदि स्टार्टअप कंपनी का प्रदर्शन अच्छा रहता या भविष्य में वह प्रदर्शन के मोर्चे पर कोई लक्ष्य हासिल करती है, तो निवेशक उससे अपने निवेश के एवज पर कंपनी के इक्विटी शेयर जारी करने को कह सकता है.

    कर्ज के बदले स्टार्टअप्स कंवर्टिबल नोट्स जारी करते हैं

    स्टार्टअप कंपनी द्वारा कर्ज के रूप में मिले धन के एवज में परिवर्तनीय नोट जारी किया जाता है. धारक के विकल्प के आधार पर इसका भुगतान किया जाता है. या फिर इसे स्टार्टअप कंपनी के इक्विटी शेयर में बदला जा सकता है. अब इन नोट को जारी करने की तारीख से 10 साल के दौरान इक्विटी शेयर में बदला जा सकेगा.

    कंवर्टिबल नोट्स के जरिए स्टार्टअप फंड्स जुटाते हैं

    विशेषज्ञों ने कहा कि परिवर्तनीय नोट स्टार्टअप के लिए शुरुआती चरण के वित्तपोषण का एक आकर्षक माध्यम बन गए हैं. डेलॉयट इंडिया के भागीदार सुमित सिंघानिया ने कहा, ‘‘परिवर्तनीय डिबेंचर/बॉन्ड के उलट परिवर्तनीय नोट इक्विटी में बदलने का लचीला विकल्प देते हैं. इसमें अग्रिम में ही परिवर्तनीय अनुप़ात तय करने की जरूरत नहीं होती.’’ सिंघानिया ने कहा कि परिवर्तनीय नोट को इक्विटी में बदलने की समयसीमा को बढ़ाकर 10 साल किया गया है. इससे स्टार्टअप कंपनियों का बोझ कम हो सकेगा.

    स्टार्टअप पर बढ़ा निवेशकों का भरोसा

    भारतीय स्टार्टअप पर देश और विदेश के निवेशकों को भरोसा बढ़ने लगा है और बड़ी संख्या में स्टार्टअप निवेशकों (investor) द्वारा ऊंची रकम जुटाने में सफल हो रहे हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक. भारतीय स्टार्टअप (Indian start ups ) कंपनियों ने वर्ष 2021 की चौथी तिमाही के दौरान सात अरब डॉलर से अधिक की धनराशि जुटाई है. वहीं साल 2021 में स्टार्टअप में 28.8 अरब डॉलर का कुल फंड (Funding) आया

    डायरेक्‍ट शेयर या फिर इक्विटी म्‍युचुअल फंडों के जरिये करें निवेश? जानिए क्‍या है आपके लिए फायदे का सौदा

    डायरेक्‍ट शेयर या फिर इक्विटी म्‍युचुअल फंडों के जरिये करें निवेश? जानिए क्‍या है आपके लिए फायदे का सौदा

    नई दिल्ली, नितेश कुमार तिवारी। 'लाभ जोखिम का पुरस्कार है'। प्रो० हॉले का ये कथन व्यापार जगत से लेकर निवेश बाजार के लिए सटीक बैठता है। शेयर बाजार में निवेश की बात करें तो अगर आप जानकार हैं और कंपनियों की गतिवधियों को समझते हैं तो सीधे उन शेयरों में निवेश कर सकते हैं जो आपको बेहतर रिटर्न दे सकते हैं। हालांकि, एक आम निवेशक के लिए शेयरों में निवेश के लिए कंपनियों पर रिसर्च करना एक मुश्किल काम है। आम निवेशकों के इस काम को आसान करते हैं इक्विटी म्‍युचुअल फंड। इक्विटी म्‍युचुअल किसी एक शेयर में नहीं बल्कि तमाम कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं। इस वजह से किसी एक कंपनी से होने वाले नुकसान आपके निवेश पोर्टफोलियो को प्रभावित नहीं करता है।

    शेयर बाजार में सीधे निवेश के फायदे और नुकसान

    अगर निवेशक शेयर बाजार में सीधे निवेश करते हैं तो इसका फायदा यह है कि इसपर ज्यादा रिटर्न के साथ-साथ अधिक नुकसान की संभावना बढ़ जाती है, लेकिन इसके अपने खतरे भी हैं। शेयर में सीधे निवेश करना ज्यादा रिटर्न के लिहाज से ठीक तो है लेकिन कई बार नुकसान का खतरा बढ़ इक्विटी पर व्यापार क्या है? जाता है और भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। अगर कोई निवेशक शेयर बाजार में सीधे निवेश करता है तो उसे अपने पोर्टफोलियो पर निरंतर ध्यान देना होता है।

    सेबी रजिस्टर्ड इन्वेस्टमेंट एडवाइजर, और सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर मनिकरण सिंघल ने कहा, जिसको स्टॉक की जानकारी नहीं है, शेयर कैसे खारीदा जाए, वे प्रोफेशनल मैनेजमेंट के जरिये म्‍युचुअल फंड में निवेश करें। इसमें सब कुछ डिसिप्लिन के तहत होता है। हर महीने SIP के जरिये जाएं। हां, अगर किसी के पास पूरा समय है, कोई निवेशक अगर मार्केट के बारे में जानता है, उसके पास रिसर्च के लिए बहुत समय है, तो फिर वो डायरेक्ट शेयर के लिए जा सकता है, वरना म्‍युचुअल फंड सबसे बेहतर विकल्‍प है।

    लॉन्ग टर्म के लिए करें निवेश

    कई दफा ऐसा होता है कि निवेशक शेयर बाजार से बहुत जल्दी भारी भरकम रिटर्न की उम्मीद लगा लेते हैं, जबकि बाजार हमारी सोच के हिसाब से नहीं चलते, इसलिए शेयर में निवेश करें तो थोड़ा धैर्य रखना होगा, क्योंकि इंतजार करने पर आपको अच्छा रिटर्न मिल सकता है।

    फंड मैनेजर को होती है जानकारी

    अगर आप म्‍युचुअल फंड के माध्यम से निवेश करते हैं उसका प्रबंधन प्रोफेशनल फंड मैनेजर्स करते हैं। फंड मैनेजर को बाजार के उतार-चढ़ाव की अच्छी समझ होती है। इसके अलावा निवेश पोर्टफोलियो डायवर्सिफाइड होने से उतार-चढ़ाव का खतरा भी कम हो जाता है।

    लैडर7 फाइनेंशियल सर्विसेज के फाइनेंशियल एडवाइजर, सुरेश सदगोपन का कहना है कि अगर कोई निवेशक डायरेक्ट शेयर में निवेश के लिए जाता है तो उसे स्टॉक मार्केट के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। उसे रिसर्च करना होगा, नये लोगों के लिए ये मुश्किल है, इसलिए प्रोफेशनल मैनेजमेंट के जरिये म्‍युचुअल फंड में निवेश करना बेहतर होगा। उन्होंने कहा कि प्रोफेशनल मैनेजर को मार्केट की मौजूदा हालत से लेकर शेयरों के बारे में जानकारी होती है कि कौन सा शेयर किस वक़्त कैसे परफॉर्म कर रहा है। इसलिए म्‍युचुअल फंड का रास्ता सही है।

    एक छोटी राशि से कर सकते हैं निवेश की शुरुआत?

    आमतौर पर म्‍युचुअल फंड में 500 रुपये से निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। लेकिन कुछ कंपनियां ऐसी भी हैं जो 100 रुपये से निवेश शुरू करने की सुविधा देती हैं।

रेटिंग: 4.27
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 183
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *