चरण निर्देश

शेयर बाज़ार के प्रकार

शेयर बाज़ार के प्रकार
Up Trend

Types of trends in stock market । शेयर मार्केट में ट्रेंड के प्रकार

Types of trends in stock market । शेयर मार्केट में ट्रेंड के प्रकार

Hi मित्रों , की आप को पता है की Types of trends in stock market । शेयर मार्केट ट्रेंड क्या है?

Table of Contents

हम सब में से कुछ लोग जानते है और कुछ लोग नहीं शेयर बाज़ार के प्रकार भी जानते है की, स्टॉक मार्केट में Trend कितने प्रकार के है ?।

What is the Market trend? मार्केट का Trend क्या है ?

Trend यानि price change की एक general दिशा।

तीन प्रकार के trend होते है ।

1 > Up Trend

2 > Down Trend

3 > Side Ways Trend

शेयर मार्केट में कभी भी एक तरफ ही नहीं होता है, वह कभी सीधा तो कभी उलटी दिशा में चलता है। इसलिए एक Investors या Traders को चल रहे Trend को समजना अति आवश्यक है ।

इसके माध्यम से आप कोई भी stocks price का movement किस दिशा तरफ है, वह जान सकते है। Technical Analysis का एक महत्वपूर्ण अंग है।

सबसे पहले Up Trend को समजते है।

1 > Up Trend

Up Trend

Up Trend

Up Trend यानि शेयर प्राइस का ऊपर की तरफ यानि Buying Side की ओर जाना , जिसे Bullish Market या Rising Trend भी कहते है ।

इस Trend में , Stock price जब वह अपने पिछले high को तोड़ कर एक नया higher high बनाता है और फिर एक higher low बनाकर फिर higher high बनाता है और यही श्रृंखला बनती रहेती है जिसे Up Trend, Bullish Market या Rising Trend कहते है ।

2 > Down Trend

Down Trend

Down Trend

Down Trend यानि Up Trend की विपरीत दिशा, शेयर प्राइस का निचे की तरफ यानि Selling Side की ओर जाना , जिसे Bearish Market या Falling Trend भी कहते है।

इस तहर के Trend में , Stock price जब वह अपने पिछले low को तोड़ कर एक नया Lower Low बनाता है और फिर एक Lower High बनाकर, फिर से Lower Low बनाता है और यही श्रृंखला बनती रहेती है. जिसे Down Trend, Bearish Market या Falling Trend कहते है ।

3 > Side Ways Trend शेयर बाज़ार के प्रकार

Side Ways Trend

Sideways Trend

Side Ways Trend यानि , Stock price का न उपर को जाना के न निचे की तरफ जाना यानि के एक मर्यादित प्राइस की सीमा में रहेना, जिसे Non trending भी कहते है।

इस तहर के Trend में Stock price में न तो Up trend की कोई श्रुंखला बनती है न तो Down trend की और शेयर की demand और supply की स्थिति एक जैसी होती है।

Chart Example चार्ट उदाहरन

Trend of stock market

Types of trends in stock market

Trend के प्रकार को समजने के लिए उपर दिए गए चार्ट को समजते है, जिसमे आपको UP Trend , Down Trend और Sideway Trend के बारे में ज्यादा जानकारी मिलेंगी।

At point No.1 > Stock Price उपर की तरफ बढ़ना सुरु किया और एक नया high बनाया और फिर एक higher low बनाकर higher high बनाया।

यह श्रुंखला higher high और higher low निरंतर चलती रहेती है, जिसे हम Up Trend कहते है।

At point No. 2 > यहाँ पर Trend में बदलाव आता है. चार्ट में देखोंगे के higher high की श्रुंखला में एक Lower High बनता है और पिछले higher Low का level को stock price तोड़ देता है जो यह बताता है की Up Trend शेयर बाज़ार के प्रकार समाप्त हो गया है।

फिर Stock Price में एक नयी श्रुंखला सुरु होती है Lower high बनता है और एक Lower Low बनता है .यह श्रुंखला चलती रहेती है जिसे हम Down Trend कहते है।

At point No. 3 > यहाँ फिर Trend में बदलाव आता है पिछले Lower high का level को Stock Price तोड़ देता है जो यह बताता है की Down Trend समाप्त हो गया है।

फिर एक छोटी सी Up trend की श्रुंखला higher high और higher low सुरु होती है Point No. 4 तक

At point No. 4 > यहाँ चार्ट में देखोंगे के higher high की श्रुंखला टूट जाती है क्योकि यहाँ एक lower high बनता है और नाही Lower Low बनता है फिर वापिस higher high बनता है।

यानि की ना तो Up trend की ना तो Down Trend बन रहा है और Stock Price एक मर्यादित प्राइस की सीमा में चल रहा है इसे Sideway Trend या Non trending कहते है।

मित्रों , यह है आज का आर्टिकल शेयर मार्केट में ट्रेंड के प्रकार के बारे में।

आपने आज यहाँ क्या सिखा?

उम्मीद है की, आपको मेरा यह आर्टिकल, Types of trends in stock market शेयर मार्केट में ट्रेंड के प्रकार जरुर पसंद आई होगी । इसे पढ़ने के बाद, आप आसानी से समज पाए होंगे के शेयर मार्केट में Up Trend , Down Trend और Sideway Trend को कैसे identify करते है ।

यदि आपको इस article को लेकर कोई भी और जानकारी चाहिए हैं, या कोई तरह का doubt हो तो, आप नीचे हमे comments लिख सकते हैं ।

यदि आपको यह post, पसंद आया , या कुछ नया सीखने को मिला तो Please इस post को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites पर share करना न भूलिए ।

मिले-जुले संकेतों के बीच सपाट खुला शेयर बाजार, निफ्टी 18,200 के नीचे

jagran

निफ्टी में अल्ट्राटेक, ग्रासिम, एलएंडटी, एनटीपीसी, बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, एक्सिस बैंक, हिंडालको, एचडीएफसी लाइफ, यूपीएल, मारुती सुजुकी, अदानी पोर्ट, टाटा मोटर्स, डिवीज लैब्स, डॉ रेड्डी लैब्स, एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, भारती एयरटेल, एचयूएल, एमएंडएम, एसबीआई लाइफ, एशियन पेंट और आयशर मोटर्स के शेयर बढ़त के साथ तेजी के साथ कारोबार कर रहे हैं।

ओएनजीसी, बीपीसीएल, नेस्ले, टीसीएस, पावर ग्रिड, अपोलो हॉस्पिटल, विप्रो, कोल इंडिया, एचसीएल टेक, सनफार्मा और टेक महिंद्रा में नुकसान हुआ है।

jagran

दुनिया के बाजारों का हाल

एशिया के बाजारों की बात करें, तो टोक्यो और शंघाई के बाजारों में तेजी के साथ, जबकि सियोल और हांगकांग के बाजार गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। वहीं, सोमवार को अमेरिकी बाजार गिरावट के साथ बंद हुए थे।

रुपये में तेजी

डॉलर के मुकाबले रुपये में मंगलवार को तेजी शेयर बाज़ार के प्रकार देखने को मिल रही है। आज के शुरुआती कारोबार में ही डॉलर के मुकाबले रुपया 14 पैसे चढ़कर 81.65 के स्तर पर पहुंच गया। इंटरबैंक फॉरेन एक्सचेंज के अनुसार, डॉलर के मुकाबले रुपया 81.72 पर खुला, जिसके बाद इसमें बढ़त शेयर बाज़ार के प्रकार देखने को मिली।

शेयर मार्केट क्या है ? क्यों हम शेयर बाजार में निवेश करते हैं?

शेयर मार्केट

इस भाग दौर भरी लाइफ में हम लोगों के पास टाइम की कमी है। इसी टाइम को खरीदने के लिए हम दिन रात मेहनत करके पैसे कमाते है, ताकि हम अपना भरण पोषण अच्छे से कर सके। इसके लिए हमें पैसे की जरूरत होती है। हम लाइफ में जीतन पैसे कम लगे उतना कम ही लगता है। वैसे में अगर आप भी शेयर मार्केट में निवेश करने की सोच रहे शेयर बाज़ार के प्रकार हैं तो शेयर मार्किट के बारे में आपको पूरी जानकारी होना बेहद जरुरी है। तो चलिए आज हम आपको शेयर बाजार से जुड़ी हर जानकारी बता देते है।

क्या है शेयर मार्केट ?(What is Share Market?)

शेयर मार्किट का मतलब होता है कि जहाँ हम अपना पैसा निवेश कर सके। सरल भाषा में समझे तो शेयर बाजार आपको वित्तीय साधनों जैसे कि बॉन्ड, म्यूचुअल फंड, डेरिवेटिव्स के साथ-साथ कंपनियों के शेयरों का भी व्यापार करने में मदद करता है। एक शेयर बाजार केवल शेयरों के व्यापार की अनुमति देता है। भारत में बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) नाम के दो प्रमुख शेयर बाजार हैं। BSE या NSE में ही किसी लिस्टेड कंपनी के शेयर ब्रोकर के माध्यम से खरीदे और बेचे जाते हैं।

शेयर शेयर बाज़ार के प्रकार बाजार के प्रकार

दो प्रकार हैं – प्राथमिक और सेकंड बाजार।

मुख्य बाज़ार: यह जहां एक कंपनी को एक निश्चित राशि के शेयरों को जारी करने और धन जुटाने के लिए पंजीकृत किया जाता है। इसे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होना भी कहा जाता है। एक कंपनी पूंजी जुटाने के लिए प्राथमिक बाजारों में प्रवेश करती है। अगर कंपनी पहली बार शेयर बेच रही है, तो इसे इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) कहा जाता है। इस प्रकार कंपनी सार्वजनिक हो जाती है। आप यहां आईपीओ में निवेश करने से पहले विचार करने के लिए 6 कारकों के बारे में पढ़ सकते हैं।

द्वितीयक बाजार: एक बार प्राथमिक बाजार में नई प्रतिभूतियों की बिक्री हो जाने के बाद, इन शेयरों का कारोबार द्वितीयक बाजार में किया जाता है। यह निवेशकों को निवेश से बाहर निकलने और शेयरों को बेचने का मौका देने के लिए है। द्वितीयक बाजार लेनदेन को उन ट्रेडों के लिए संदर्भित किया जाता है जहां एक निवेशक दूसरे निवेशक से मौजूदा बाजार मूल्य पर शेयर खरीदता है या दोनों पक्ष जिस भी कीमत पर सहमत होते हैं। आम तौर पर, निवेशक एक मध्यस्थ का उपयोग करके ऐसे लेनदेन का संचालन करते हैं जैसे कि दलाल, जो प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाता है। अलग-अलग ब्रोकर अलग-अलग प्लान पेश करते हैं।

शेयर बाजार क्या है? | Meaning of Share Market in Hindi

Share bazar kya hai meaning of Share Market in Hindi – किसी ने सही कहा है ” अगर शेयर बाजार आपको करोड़पति बना सकता है तो दूसरे ही पल ये आपको सड़क पे भी ला सकता है “। शेयर बाजार से जहा आप पैसा बना सकते है वही पैसा खो भी सकते है। लेकिन अगर आपके पास शेयर बाजार के बारे में अच्छी जानकारी है और आप सोच समझकर अच्छे से शोध करके निवेश करते है तो शेयर बाज़ार के प्रकार शेयर बाज़ार के प्रकार ऐसा कम ही होगा की आप अपना पैसा खोये। सबसे महत्वपूर्ण बातें जो आपको शेयर बाजार में निवेश करने से पहले शेयर बाज़ार के प्रकार ध्यान रखनी है वह है कैसे अच्छे रिटर्न्स पाए और कैसे रिस्क को कम करे।

सबसे पहले आपको ये धारणा छोड़नी होगी की शेयर बाजार एक जुआ है। शेयर बाजार का बहुत ही सरल सा नियम है – अच्छे से कंपनी के ऊपर शेयर बाज़ार के प्रकार शोध करे जिसमे आप निवेश करना चाहते है और तभी शेयर ख़रीदे। अगर आपके पास शेयर बाजार के बारे में सही जानकारी है और आप संख्याओं को पड़ना और समझना जानते है तो आप आसानी से शेयर मार्किट से पैसा कमा सकते है।

‘शेयर बाजार’ क्या है – Share Market Kya hai

शेयर बाजार आखिर है क्या ? ये ऐसी जगह है जहा से कम्पनिया पैसा उधार पे लेती है । शेयर मार्किट में केवल शेयर ही नहीं बेचे ख़रीदे जाते । यहाँ bonds, derivatives और Mutual Funds भी ख़रीदे बेचे जाते हैं ।

आज शेयर बाजार इतना विकसित हो चूका है की सारी जानकारी उपलब्ध है। कंपनियां अपनी तिमाही, छमाही और वार्षिक नतीजे उपलब्ध करते है। इन नतीजों में कंपनी को कितना मुनाफा हुआ, कितना खर्चा करा। क्या EPS है? कंपनी का PE ratio क्या है? शेयर over priced है या undervalued? शेयर की असली कीमत क्या है? ये सारी जानकारी कंपनी की वेबसाइट में उपलब्ध होती है।

ये एक सच्चाई है की हम शेयर बाजार से जुड़े रिस्क को पूरी तरह से खत्म नहीं कर सकते। लेकिन आप उसको डाइवर्सिफाई (Diversify) करके कम क्र सकते है। कभी भी एक ही इंडस्ट्री या एक ही तरह की कंपनी में निवेश न करे।

आपके पोर्टफोलियो में लार्ज कैप, स्माल कैप, मिड कैप या फिर अलग अलग सेक्टर से जुडी कम्पनिया होनी चाहिए। ये हमेशा ध्यान रखिये की चाहे शेयर बाजार कितना भी निचे चलरा हो इसका मतलब ये नहीं हर शेयर की कीमत गिर रही होगी। इससे आप अपने नुकसान को कम कर सकेंगे। साथ ही आपका पैसा डूबेगा भी नहीं। Shares in Hindi शेयरों के बारे में जानकारी देने में आपकी मदद करता है।

Types of Share Market/ शेयर बाजार के प्रकार

शेयर बाजार को दो श्रेणियो में बांटा गया है – प्राथमिक बाजार (primary market) और द्वितीयक बाजार(secondary market). जब शेयर पहली बार कंपनी द्वारा सीधे बिक्री के लिए पेश किए जाते हैं (IPO), तो उन्हें प्राथमिक बाजार (primary market) में पेशकश की जाती है, जबकि शेयरों का व्यापार द्वितीयक बाजार(secondary market) में होता है। शेयरों की लिक्विडिटी liquidity उसे कहा जाता है जब किसी कंपनी का शेयर आसानी से बिकने (selling shares) या खरीदने (buying shares) के लिए उपलब्ध रहता है |

  • प्राथमिक बाजार – इस बाजार में नई प्रतिभूतियों जारी की जाती है । जब कंपनी पहले बार पब्लिक से पैसा उठती है तो इसी बाजार में शेयर जारी करती है । प्राथमिक बाजार का कोई भौगोलिक अस्तित्व नहीं है। इस बाजार को नयी प्रतिभूति बाजार या IPO भी कहा जाता है ।
  • द्वितीयक बाजार – इस बाजार में पहले से ही जारी की गयी प्रतिभूतियों खरीदी और बेचीं जाती है। यहाँ वो प्रतिभूतियों खरीदी बेचीं जाती है जो पहले से ही जारी की गयी है।

जो भी व्यक्ति शेयर बाजार में पैसा लगाते हैं उन्हें निवेशक investor कहा जाता है । शेयर बाजार में पैसा लगाने से पहले निवेशक को रजिस्टर्ड ब्रोकर्स के साथ Demat खाता खुलवाना होता है। बिना Demat खाते के कोई भी व्यक्ति शेयर ट्रेडिंग नहीं कर सकता । ICICI Direct, Sharekhan, Angels Broking कुछ SEBI registered दलाल brokers के नाम है।

शेयर बाजार पर यह अध्याय ‘Share Market in Hindi’ उम्मीद से शेयर बाजार से संबंधित किसी भी संदेह को साफ करता है, आपको शेयरों को समझने में मदद करता है और शेयर बाजार में निवेश कैसे किया जाता है समझने में मदद करता है।

रेटिंग: 4.68
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 268
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *