सर्वोत्तम उदाहरण और सुझाव

गतिशील सीमा

गतिशील सीमा

भारत और नेपाल के संबंध हुए गतिशील; भारत ने नेपाल में समावेशी संविधान की वकालत

★भारत का नेपाल के साथ करीबी रिश्ता रहा है लेकिन हाल के समय मे चीन नेपाल पर अपना कुछ असर रखने की कोशिश में जुटा है। ओली ने चीन के साथ गहरा सहयोग विकसित करने का प्रयास किया था। नेपाल ने ओली के प्रधानमंत्री रहने के दौरान चीन के साथ परिवहन और पारगमन संधि की थी।

★नेपाल गतिशील सीमा पिछले साल सितंबर में नये संविधान के अंगीकार करने के बाद से ही राजनीतिक संकट से जूझ रहा है। करीब पांच महीने तक चले मधेसी आंदोलन के चलते भारत के साथ लगते प्रमुख व्यापारिक मार्ग बंद हो गए थे और नेपाल में जरूरी वस्तुओं की भारी किल्लत हो गयी थी। यह आर्थिक नाकेबंदी फरवरी में खत्म हुई थी। नेपाल ने मधेसी संकट के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया था जिससे भारत ने स्पष्ट इनकार किया था।

★ सुरक्षा के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि नेपाल ने भारत से कहा कि वह भारत के सुरक्षा हितों के खिलाफ अपने को इस्तेमाल नहीं होने देगा।
★ भारत ने नेपाल के नए प्रधानमंत्री से कहा कि सभी वर्गों की आकांक्षाओं को समावेशित कर देश का संविधान लागू किया जाना गतिशील सीमा चाहिए। साथ ही उसने उसके बुनियादी ढांचों के पुनर्निर्माण में सहयोग का वादा भी किया।
★ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके नेपाली समकक्ष पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ के साथ सघन बातचीत के बाद दोनों पक्षों ने तीन समझौतों पर दस्तखत किए।
1. उनमें से एक के तहत भारत नेपाल को भूकंप के बाद के पुनर्निर्माण के वास्ते 75 करोड़ डालर देगा और दूसरा तराई क्षेत्र में सड़कें बनाने से जुड़ा है। पिछले साल विनाशकारी भूकंप से नेपाल की अर्थव्यवस्था चरमरा गयी थी। ये फैसले काठमांडो पर अपना प्रभाव बढ़ाने गतिशील सीमा की चीन की बढती कोशिशों के बीच काफी अहम माने जा रहे हैं।
2. व्यापार बढ़ाने, रेल एवं सड़क संपर्क में सुधार लाने तथा नेपाल में भारत द्वारा लागू की जा रही बड़ी बुनियादी परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करना सुनिश्चित करने का फैसला किया।
3. भारत अगली ऋण सुविधा पर राजी हुआ है और उसने हिमालयी राष्ट्र के भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में 50,000 मकान बनाने के लिए दो लाख के बजाय तीन लाख रूपये देने के नेपाल के अनुरोध को मान लिया है।

★नये संविधान के कुछ प्रावधानों का मधेसी जबर्दस्त विरोध कर रहे हैं। ज्यादातर मधेसी भारतीय मूल के हैं। मधेसी कहते आ रहे हैं कि संविधान के कुछ प्रावधान उन्हें राजनीतिक रूप से हाशिये पर डाल देंगे। कुछ महीने पहले लंबे समय तक चले प्रदर्शन एवं आर्थिक नाकेबंदी के चलते नेपाल और भारत के बीच तनाव पैदा हो गया था।

#विस्तार से
- बातचीत के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में मोदी ने प्रचंड से कहा, ‘आप नेपाल की शांति में उत्प्रेरक शक्ति रहे हैं। मुझे विश्वास है कि आपके बुद्धिमतापूर्ण नेतृत्व में नेपाल आपके विविधतापूर्ण समाज के सभी वर्गों की आकांक्षाओं का समावेशन करते हुए समग्र वार्ता के जरिए संविधान लागू करने में सफल होगा।’
- नेपाल कुछ महीने से असहज राजनीतिक परिवर्तन से जूझ रहा है। के पी शर्मा ओली ने नये संविधान के खिलाफ मधेसियों के विरोध के कारण उत्पन्न ताजे राजनीतिक उठापठक के चलते जुलाई में प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था।

- भारत का मनना है कि बिल्कुल नजदीक पड़ोसी और दोस्ताना राष्ट्र होने गतिशील सीमा के नाते नेपाल की शांति, स्थिरता और समृद्धि ही हमारा साक्षा उद्देश्य है। नेपाल की विकास यात्रा के हर कदम पर हमें आपके साझेदार होने का गर्व रहा है।’

- भारत नेपाल के साथ विकास साझेदारी को मजबूत बनाने के लिए तैयार है। भारत नेपाल की जनता और सरकार की प्राथमिकताओं के हिसाब से काम करेंगा। भारत तराई सड़कों के दूसरे चरण, विद्युत पारेषण लाइनों, सबस्टेशनों, कास्की में पोलीटेकनिक जैसे नयी परियोजनाओं के लिए अतिरिक्त ऋण सुविधा देने पर राजी हो गया है।
- दोनों पक्ष इस बात पर राजी हुए कि नेपाल और भारत के सुरक्षा हित आपस में जुड़े हैं तथा रक्षा एवं सुरक्षा एजेंसियों के बीच करीबी सहयोग जारी रहेगा। दोनों देशों के बीच खुली सीमा हमारे लोगों के बीच सहयोग एवं अंतर्संवाद का बड़ा मौका प्रदान करती है। लेकिन हमें उन तत्वों के खिलाफ चौकसी जारी रखने की जरूरत है जो इस सीमा का दुरूपयोग करना चाहते हैं।’

- खुले आसमान, सीमापार विद्युत व्यापार, पारगमन मार्ग, सीमापार कनेक्टिविटी की भारत की पहलों से निश्चित ही नेपाल को फायदा होगा तथा दोनों देशों की आर्थिक साझेदारी मजबूत होगी।

★दोनों देश वर्तमान पनबिजली परियोजनाओं को जल्द पूरा करने और पारेषण लाइनों के विकास एवं क्रियाशील करने पर बल देने पर सहमत हुए।’ उन्होंने कहा कि सभी विकास परियोजनाओं को समय से पूरा करने के लिये कड़ी निगरानी पर सहमति बनी।

★ नेपाल पर चीन के बढ़ते प्रभाव पर उन्होंने कहा कि नेपाल के साथ भारत का रिश्ता अनूठा है और सभी पड़ोसियों का समान इतिहास और सांस्कृतिक संबंध नहीं रहा है। इस संबंध की अनोखी प्रकृति देखिए।

★ दोनों देश अपने साझे बौद्ध धरोहरों को प्रदर्शित करने तथा आयुर्वेद एवं अन्य पारंपरिक उपचार पद्धतियों के विकास पर ध्यान देने पर सहमत हुए।

गतिशील सीमा

विद्युत के आयात/निर्यात (सीमा पार) के लिए दिशानिर्देश- 2018

द्विपक्षीय समझौता ज्ञापन (एमओयू)/विद्युत व्यापार समझौता (पीटीए) के अंतर्गत पड़ोसी देशों के साथ विद्युत का सीमापार व्यापार लंबे समय से होता आ रहा है। अधिकार क्षेत्र में विनियामक दृष्टिकोणों में अधिक पारदर्शिता, स्थिरता और पूर्वानुमेयता के साथ विद्युत के सीमा पार व्यापार को सुविधाजनक बनाने और बढ़ावा देने के लिए और विनियामक जोखिमों की धारणा को कम करने के लिए, विद्युत मंत्रालय द्वारा दिसंबर 2016 में विभिन्न हितधारकों के परामर्श से "विद्युत के सीमा पार व्यापार पर दिशानिर्देश- 2016" जारी किए गए थे। विभिन्न हितधारकों से इनपुट प्राप्त करने के बाद, इसे संशोधित करने की आवश्यकता महसूस की गई। तदनुसार, हितधारकों के साथ उचित परामर्श के बाद दिनांक 18.12.2018 को विद्युत मंत्रालय द्वारा नए "विद्युत के आयात/निर्यात (सीमा पार) के लिए दिशानिर्देश - 2018" जारी किए गए हैं।

ग. देश में विद्युत के आयात/निर्यात से संबंधित विनियामक तंत्र में गतिशील सीमा पारदर्शिता, निरंतरता और पूर्वानुमेयता को बढ़ावा देना;

पृष्ठ : खग्रास.djvu/३००

"सर्वथा भ्रान्त। टाम, वग, मैक्स, प्लाक, सर जार्ज स्टोक्स, लारैज, मिकिल्सन, मुले, सर ओलिवर लौज आदि वैज्ञानिक ईथर को लेकर भारी भूल मे थे। वे यह नही जानते थे कि पृथ्वी के अपनी कीली पर घूमने के साथ साथ उससे सम्बद्ध व्योम भी घूमता है। आईस्टीन के सापेक्ष्यवाद ने वैज्ञानिको की इस जटिल समस्या का सरल समाधान कर दिया। उन्होने प्रमाणित किया कि विश्व मे सर्वत्र सक्रिय विद्युत चुम्बकीय (ऐलेक्टो मेनेटिक) शक्ति स्वतन्त्र रूप से कार्य नही करती। इसी से कीली पर घूमने वाली पृथ्वी के समानान्तर उडने वाले वायुयानो मे विद्युत-चुम्बकीय शक्ति के सक्रियता-सम्बन्वी परीक्षणो के परिणाम पृथ्वी पर किए गए परिणामो से भिन्न होते है। वैज्ञानिक मैक्सवेल के सिद्धान्त के अनुसार प्रकाश एक विद्युत्-चुम्बकीय घटना है। आईंस्टीन कहते है कि समान गति से गतिशील पदार्थो और सघटनो मे विद्युत् चुम्बकीय क्रिया एक ही प्रकार के निष्कर्षों को जन्म देती हुई नैसर्गिक रूप से सम्पादित होती रहती है। इसी आधार पर यह खोज की गई कि प्रकाश भी समान गति वाला पदार्थ है । इसका यह अभिप्राय है कि विश्व मे कोई भी घटना क्यो न होती रहे, प्रकाश की गति पर उसका कोई प्रभाव न पडेगा। गतिशील पदार्थ से जो प्रकाश उत्पन्न होगा, उसकी गति उतनी ही होगी जितनी कि किसी स्थिर पदार्थ से निकलने वाले प्रकाश की। अर्थात् प्रकाश का प्रसरण दोनो ही अवस्थामो मे १,८६,००० मील प्रतिसैकिण्ड की गति से होगा। इसका यह अर्थ हुआ कि हम ऐसे ससार मे रह रहे है जहाँ का देश-काल का परस्पर सम्बन्ध सापेक्षता नियम के अन्तर्गत इतना नपा-तुला है कि वहाँ १,८६,००० मील प्रति सैकिण्ड प्रवेग (वैलोसिटी) की अन्तिम सीमा है।"

भारत-बांग्लादेश सीमा बल 18वीं IG-स्तर की वार्ता में संघर्ष समाधान तंत्र में सहयोग के लिए सहमत

कोलकाता : भारत और बांग्लादेश सीमा सुरक्षा बलों ने मंगलवार को 18वें महानिरीक्षक सीमा समन्वय सम्मेलन में संघर्ष समाधान तंत्र और सीमा प्रबंधन के प्रभावी कार्यान्वयन के बीच विभिन्न मुद्दों पर सहमति व्यक्त की.

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) दोनों ने भी पश्चिम बंगाल के कोलकाता में दिन में सौहार्दपूर्ण तरीके से सम्मेलन के समापन के बाद चर्चा के एक संयुक्त रिकॉर्ड गतिशील सीमा पर हस्ताक्षर किए।

11 सदस्यीय बीजीबी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व ब्रिगेडियर जनरल एबीएम नवरोज एहसान, अतिरिक्त महानिदेशक, क्षेत्र कमांडर, उत्तर पश्चिम क्षेत्र, रंगपुर ने किया। बीजीबी प्रतिनिधिमंडल में केएम आजाद, अतिरिक्त महानिदेशक, क्षेत्र कमांडर, एसडब्ल्यू क्षेत्र, जशोर और अन्य नौ प्रतिनिधि शामिल हैं।

11 सदस्यीय बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व दक्षिण बंगाल सीमांत सीमा सुरक्षा बल के महानिरीक्षक अतुल फुलजेले ने किया। बीएसएफ के प्रतिनिधिमंडल में अजय सिंह, आईजी, बीएसएफ, उत्तर बंगाल फ्रंटियर, कमलजीत सिंह बन्याल, आईजी, बीएसएफ, गुवाहाटी फ्रंटियर और अन्य आठ प्रतिनिधि शामिल हैं।

यह देखते हुए कि दोनों सीमा सुरक्षा बलों को सबसे जटिल और गतिशील भारत-बांग्लादेश सीमा पर तैनात किया गया है, फुलजेले ने सीमा प्रबंधन के विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करने में सहयोग के लिए बीजीबी और बांग्लादेश सरकार का आभार व्यक्त किया।

बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल के नेता ने आगे कहा कि भारत-बांग्लादेश सीमा की जटिल और गतिशील प्रकृति को देखते हुए, बीएसएफ और बीजीबी संबंधित पक्ष पर सीमा प्रबंधन के प्रभावी कार्यान्वयन में एक-दूसरे के प्रयासों को पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

अधिकारी ने आगे कहा कि संबंधों में विशेष गर्मजोशी और दोनों सेनाओं के संघर्ष-समाधान तंत्र में सकारात्मक बदलाव बहुत उत्साहजनक है। उन्होंने आश्वासन दिया कि बीएसएफ इस बैठक के माध्यम से जमीनी स्तर की समस्याओं को और अधिक आसानी से हल करने के लिए इस भावना को क्षेत्र स्तर तक ले जाने का इरादा रखता है।

आईजी बीएसएफ ने यह भी कहा कि अपराधी सीमा के दोनों किनारों पर मौजूद हैं और उनके नापाक मंसूबों को तभी नाकाम किया जा सकता है जब बीएसएफ और बीजीबी हर स्तर पर मिलकर काम करें।

इसके लिए, बीएसएफ हर समय सर्वश्रेष्ठ सहयोग का आश्वासन देता है, अधिकारी ने समान दृष्टिकोण रखने के लिए बीजीबी में अपना विश्वास व्यक्त करते हुए कहा।

उन्होंने आगे कहा कि "समन्वित सीमा प्रबंधन योजना" (सीबीएमपी) एक ऐसा उपकरण है जिसे प्रभावी सीमा प्रबंधन के लिए दोनों बलों द्वारा विकसित किया गया है।

अधिकारी गतिशील सीमा ने कहा, "इसकी वास्तविक भावना से इसे लागू करने की जिम्मेदारी दोनों बलों के कंधों पर है जो गतिशील सीमा क्षेत्र में काम कर रहे हैं।"

बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल के नेता ने आगे अपने दृढ़ विश्वास से अवगत कराया कि यह बैठक दोनों बलों के संबंधों को और अधिक ऊंचाई तक ले जाएगी।

बीजीबी प्रतिनिधिमंडल के नेता, ब्रिगेडियर जनरल एबीएम नवरोज एहसान ने बीजीबी प्रतिनिधिमंडल के गर्मजोशी से स्वागत और उदार आतिथ्य के लिए आईजी बीएसएफ को धन्यवाद दिया, जिसमें कहा गया कि दोनों सीमा सुरक्षा बलों को सीमा पर शांति और शांति बनाए रखने की पवित्र जिम्मेदारी सौंपी गई है।

उन्होंने अपना दृढ़ विश्वास व्यक्त किया कि विचारों का एक मैत्रीपूर्ण आदान-प्रदान, सहयोग, समन्वय और पारस्परिक समर्थन समझ में अंतराल को कम करेगा और दोनों बलों को विभिन्न सीमा मुद्दों को सही परिप्रेक्ष्य में हल करने में सक्षम करेगा।

अधिकारी ने कहा, "इसके अलावा, इस तरह की बातचीत दोनों देशों के बीच एक साझा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए बंधन को मजबूत करेगी।" (एएनआई)

रेटिंग: 4.52
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 783
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *