सर्वोत्तम उदाहरण और सुझाव

वैश्विक संकेतक

वैश्विक संकेतक
व्यापक आर्थिक आंकड़ों में देश के अवसंरचना ढांचा का नवंबर का आंकड़ा शुक्रवार को जारी किया जाएगा। साल-दर-साल आधार पर अक्टूबर में देश के अवसंरचना ढांचे में 4.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी।

वैश्विक संकेतक

मुंबई, 24 दिसंबर (आईएएनएस)। अगले सप्ताह भारतीय शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव का रुख बना रह सकता वैश्विक संकेतक है, क्योंकि निवेशक दिसंबर 2017 से जनवरी 2018 के वायदा और विकल्प खंड में अपनी स्थिति तय करेंगे। जबकि दिसंबर की डेरिवेटिव निविदा की समाप्ति गुरुवार को हो रही है।

इसके अलावा बाजार की चाल घरेलू और वैश्विक व्यापक आर्थिक आंकड़े, वैश्विक बाजारों के प्रदर्शन, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थापक निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों का प्रदर्शन के आधार पर तय होंगे।

सोमवार को क्रिसमस के उपलक्ष्य में शेयर बाजार बंद रहेंगे। क्राफ्ट पेपर निर्माता एसट्रॉन पेपरएंड बोर्ड अगले हफ्ते शेयर बाजार में सूचीबद्ध होगी। कंपनी का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) 243.29 गुना ओवरसब्सक्राइव हुआ है। कंपनी ने आईपीओ का प्राइस बैंड 45 से 50 रुपये प्रति शेयर तय किया था।

वैश्विक संकेतक

एसडीजी और महिला-पुरुष संकेतक भारत वर्ष 2015 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा अनुमोदित ‘ट्रांसफॉर्मिंग ऑवर वर्ल्ड: द 2030एजेंडा फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ संकल्प (2030 एजेंडा) पर एक हस्ताक्षरकर्ता देश है। इस 2030 एजेंडे में 17 सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) और 169 लक्ष्य शामिल हैं। जहां एक ओर लक्ष्य 5 ‘महिला-पुरुष समानता हासिल करने और सभी महिलाओं एवं लड़कियों को सशक्त बनाने’ से जुड़ा एकल लक्ष्य है, वहीं दूसरी ओर पूरे ही एजेंडे में महिला-पुरुष समानता को मुख्यधारा में लाया गया है। संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों के सांख्यिकीय वैश्विक संकेतक कार्यालयों एवं मुख्‍य एजेंसियों और संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकीय आयोग


--- गोपाल चन्द्र अग्रवाल
( संपादक- ऑल राइट्स)

वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक ‘( MPI) की निगरानी के लिए नीति आयोग’ द्वारा राष्ट्रीय फ्रेमवर्क का निर्माण

वैश्विक ‘बहुआयामी गरीबी सूचकांक’ 107 विकासशील देशों की बहुआयामी गरीबी मापने की इसे ‘ऑक्सफोर्ड गरीबी और मानव विकास पहल’ (OPHI) और ‘संयुक्त राष्ट्र वैश्विक संकेतक विकास कार्यक्रम’ (UNDP) द्वारा वर्ष 2010 में वैश्विक संकेतक विकसित किया गया था।इसे प्रतिवर्ष जुलाई माह में संयुक्त राष्ट्र के सतत् विकास पर ‘उच्च स्तरीय वैश्विक संकेतक राजनीतिक अधिकार’ (HLPF) में जारी किया जाता

  • वैश्विक MPI, भारत सरकार द्वारा पहचाने गए उन 29 चुनिंदा वैश्विक सूचकांकों में से एक है, जिन्हें वैश्विक संकेतक ‘सुधार और विकास के लिये वैश्विक संकेतक’ (Global Indices to Drive Reforms and Growth- GIRG) के रूप में जाना जाता है।
  • GIRG में शामिल सूचकांक, महत्त्वपूर्ण सामाजिक और आर्थिक संकेतकों के वैश्विक संकेतक आधार पर भारत के प्रदर्शन का मापन और निगरानी करने में मदद करते हैं
  • नीति आयोग द्वारा MPI की निगरानी के लिये एक ‘बहुआयामी गरीबी सूचकांक समन्वय समिति’ का गठन किया गया है।
  • इस समिति में विद्युत, दूरसंचार, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, पेयजल और स्वच्छता, शिक्षा, आवास और शहरी मामले, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण जैसे मंत्रालयों और विभागों के सदस्य शामिल हैं। इन मंत्रालयों/विभागों का चयन MPI सूचकांक में शामिल दस संकेतकों के आधार पर किया गया है।
  • MPI में प्रदर्शन की निगरानी के लिये MPI पैरामीटर डैशबोर्ड तैयार किया जा रहा है।
  • यह डैशबोर्ड पाँच बेंचमार्को के आधार पर राज्यों की प्रगति का आकलन करेगा।
    • MPI के आयाम (शिक्षा, वैश्विक संकेतक स्वास्थ्य, जीवन स्तर);
    • MPI के संकेतकों (10 संकेतकों);
    • उप-संकेतकों (प्रत्येक संकेतक में 13 उप-संकेतक),
    • आधार रेखा [‘राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS)- 4 के आधार पर निर्धारित]
    • राज्यों की वर्तमान स्थिति (संकेतकों के नवीनतम आउटकम सर्वे पर आधारित)

    शेयर बाजार में गिरावट की वजह वैश्विक संकेत : अधिया

    शेयर बाजार में गिरावट की वजह वैश्विक संकेत : अधिया

    नई दिल्ली, 5 फरवरी (आईएएनएस)| वित्त एवं राजस्व सचिव हसमुख अधिया का कहना है कि शेयर बाजारों में भारी गिरावट की वजह दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) कर लगाया जाना नहीं बल्कि वैश्विक संकेतक हैं। अधिया के मुताबिक, शेयरों से कमाई पर सिर्फ 10 फीसदी एलटीसीजी लगाया गया है, जिससे शेयरों में निवेश अभी भी आकर्षक बना हुआ है।

    अधिया ने सोमवार को सीआईआई के एक कर्याक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अन्य परिसंपत्तियों के मुकाबले शेयरों पर एलटीसीजी कर कम है।

    गौरतलब है कि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक फरवरी को आम बजट पेश करते हुए शेयरों से एक लाख रुपये से अधिक की कमाई पर 10 फीसदी एलटीसीजी कर लगाए जाने का ऐलान किया था। इससे सरकार को 20,000 करोड़ रुपये का राजस्व होने की उम्मीद है।

    वैश्विक भूख सूचकांक: सरकार ने कहा- केवल 3.9 फीसदी वैश्विक संकेतक बच्चे अल्पपोषित, आंकड़ों को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया गया

    global-hunger-index-only-3.9-percent children-malnourished-says-government | वैश्विक भूख सूचकांक: सरकार ने कहा- केवल 3.9 फीसदी बच्चे अल्पपोषित, आंकड़ों को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया गया

    Highlights सरकार ने कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक में इस्तेमाल प्रमुख संकेतक को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया गया. केवल 3.9 फीसदी आंगनवाड़ी बच्चे अल्पपोषित पाए गए हैं. जीएचआई 2021 ने भारत को वैश्विक संकेतक 116 देशों में से 101वें स्थान पर रखा है.

    नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने रविवार को कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई) में उपयोग किए जाने वाले एक प्रमुख संकेतक को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया गया है क्योंकि केवल 3.वैश्विक संकेतक 9 फीसदी आंगनवाड़ी बच्चे अल्पपोषित पाए गए हैं.

रेटिंग: 4.84
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 407
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *