बाइनरी ऑप्शन्स

ब्रोकर कैसे बनें

ब्रोकर कैसे बनें
– स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए शेयर मार्केट का अच्छा ज्ञान और अनुभव होना चाहिए.
– किसी कंपनी का शेयर कब ज्यादा भाव में जाएगा और कब कम में जाएगा इसकी दूरदर्शिता होनी चाहिए.
– निवेशकों को कन्वेन्स करने की कला होनी चाहिए. इसके लिए आपको निवेशकों के साथ अच्छे संबंध बनाने होंगे जिनसे उनका विश्वास आप पर रहे.
– बिजनेस के कानून की जानकारी होनी चाहिए.
– बिजनेस में कौन सा मोड़ आने पर शेयर को नुकसान होगा इस बात की जानकारी होनी चाहिए.
– मेहनती और वफादार होना चाहिए.

स्टॉक ब्रोकर नौकरी| सैलरी| 2022| Stock Broker Kya Hota Hai

स्टॉक ब्रोकर क्या होता है – stock broker kya hota hai, शेयर मार्केट में ब्रोकर का क्या काम होता है?

दोस्तों, इस लेख में हम शेयर मार्किट में उपयोग होने बाले ब्रोकर (broker) के बारे में जानकरी प्राप्त करेंगे. क्योकि बिना ब्रोकर के शेयर को खरीद या बेच नहीं सकते है. इस समय सभी लोग share market की तरफ आना चाहते है और काफी लोग निवेश भी कर चुके है. जब से इन्टरनेट का दौर आया है तब से ज्यादातर कार्य ऑनलाइन होने लगे है.

पहले के लोग सिटी में ही निवेश करते थे लेकिन अब गाँव के लोग भी निवेश करने लगे है यह सिर्फ इन्टरनेट के करण संभव हुआ है. इसलिए शेयर मार्किट में निवेश करने के लिए बेसिक जानकारी पता होना चाहिए जिससे आगे आपको कोई समस्या ना हो.

Stock broker kya hota hai के बारे मे अच्छे से समझाने की कोशिश करेंगे ताकि आपको एक बेसिक ज्ञान मिलते रहे। तो चलिए मे आपको step by step जानकारी इस पोस्ट के जरिये बता रहे है.

स्टॉक ब्रोकर किस तरह से काम करता है (Stock Broker Kya Hota Hai)

शेयर मार्किट में शेयर को sell और buy के लिए stock broker में ट्रेडिंग account बनाना होता है. इसके जरिये ही हम मार्किट मे आप आर्डर लगाते है की हमें किस शेयर को किस समय ख़रीदे और कब बेचे, कितनी क्वांटिटी ख़रीदे. ये कुछ ही सेकंड में अपने आर्डर को मार्किट में पंहुचा देते है.Stock broker kya hota hai

इसका प्रोसेस कुछ इस तरह है –

मान लीजिये की आपने अपने ट्रेडिंग अकाउंट से TCS कंपनी के 20 शेयर खरीदने का आर्डर दिया अब आर्डर को प्लेस करते ही stock ब्रोकर आपके आर्डर को शेयर मार्किट में ले जायगा. और जो व्यक्ति TCS कंपनी के शेयर को बेचने के लिए खोज रहा होगा. इस प्रोसेस में आप शेयर को खरीद रह है और वो व्यक्ति ब्रोकर कैसे बनें शेयर को बेच रहा है. ये मैचिंग आर्डर हुआ जिसमे वह आपके आर्डर को आप तक पंहुचा देगा ये काम stock broker करते है.

Stock broker कितने प्रकार के होते है?

स्टॉक ब्रोकर 2 प्रकार के होते है-

1.फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर (Full-Service Broker)

2.डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर (Discount Stock Broker)

1.फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर (Full-Service Broker)-

ये ब्रोकर फुल सर्विस प्रोवाइड करते है लेकिन इसमें sell और buy की सुविधा नहीं मिलती है. इसमें कई अन्य सर्विस प्रोवाइड होती है जैसे कौनसा शेयर खरीदना है, कितने शेयर खरीदना है, और उसे कब बेचना है ये सभी जानकारी Full-Service Broker में मिलती है.

यदि जब भी आप कोई stock खरीद रह है और पैसे कम है तो ऐसे में आपको margin money की सुविधा मिलती है. यदि आप “इनिशियल पब्लिक ओफ्फेरिंग” के जरिये शेयर को खरीद रह है तो आप फ़ोन से कॉल करके या इन्टरनेट एप्लीकेशन की मदद से अपने दिय गय आर्डर को प्लेस कर सकते है. इस ब्रोकर में आपको पोर्टफोलियो मैनेज की सुविधा मिलती है.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिये शैक्षिक योगयता

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिये सबसे पहले उम्मीदवार को Commerce से स्नातक पास होना अनिवार्य है तथा उसके बाद अगर कोई उम्मीदवार Post Graduate या MBA पास होता है तो वह व्यक्ति बोनस, उन्नति, या उच्च वेतन के लिए योग्य होता है.

इसके साथ ही इस क्षेत्र में आपको अपना कैरियर सफल बनाने के लिए Sensex और Nifty की भी अच्छे से जानकारी होनी चाहिए. स्टॉक ब्रोकर के क्षेत्र में अगर आप सफल होना चाहते हैं तो आपको अपने सभी Customers के साथ ईमानदारी के साथ पेश आना होगा क्योंकि यहाँ पर आपको Customers का विश्वाश बनाए रखना बहुत जरुरी होता है. इस क्षेत्र में आप लोगो के पैसे या बचत को Share Market में लगवाते है तो इसके लिए आपको उनके साथ अच्छा व्य्वहार बना कर रखना पड़ता है.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए आवश्यक स्किल

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए वास्तव में वफ़ादार और मेहनती होना जरुरी है.ब्रोकर कैसे बनें

स्टॉक ब्रोकर कैसे बनें

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए उम्मीदवार के पास Commerce, Cconomics या Business Administration में या वित्त में एक मजबूत शिक्षा पृष्ठभूमि होनी चाहिए. स्टॉकब्रोकिंग पेशे के लिए पात्र होने के लिए देश के कई विश्वविद्यालयों द्वारा अर्थशास्त्र या वाणिज्य में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों का अनुसरण किया जा सकता है. वित्त प्रबंधक प्रबंधन के प्रतिष्ठित संस्थानों से या प्रमुख विश्वविद्यालयों के व्यवसाय प्रशासन के विभागों से वित्त में विशेषज्ञता के साथ MBA हो सकते हैं

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए उम्मीदवार को ब्रोकर कैसे बनें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा.

Step 1

एक स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए इच्छुक उम्मीदवार को Stock Broking और Capital Market और निवेश निवेश योजना और कई अन्य संबंधित Courses में Course करना पड़ता है जो भारत में कुछ प्रशिक्षण संस्थानों द्वारा पेश किए जाते है.

इन Courses के माध्यम से जाने के बाद किसी को Stock Broking Company से जुड़ना पड़ता है और इसमें कम से कम 2 साल का अनुभव प्राप्त करना होता है.

Step 3

Stock Broking Company के साथ काम करने के दौरान पर्याप्त अनुभव और ज्ञान प्राप्त करने के बाद कोई भी अकेले अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है या संबंधित अधिकारियों से अपेक्षित अनुमति के साथ Stock Broking Company को Registered कर सकता है.

एक Stock Broker के रूप में आपको अपने ग्राहक की Financial Profile को Manage करना होगा. आप निवेश विश्लेषकों से सलाह लेंगे उसके बाद आप अपने ग्राहक के साथ पूरे परिदृश्य पर चर्चा करेंगे कि ग्राहक के पैसे पर वापसी के रूप में सबसे अच्छा लाभ उठाने के लिए कौन से Financial Share खरीदने या बेचने है.

Education Qualification for Stock Broker

भारत में स्टॉक ब्रोकर के तौर पर अपना करियर शुरू करने के लिए स्टूडेंट्स ने प्रेफरेबली कॉमर्स, इकोनॉमिक्स, बिजनेस मैनेजमेंट या मैथ्स विषय में अपनी 12वीं क्लास किसी किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड पास की है। वहीं सब-ब्रोकर का काम शुरू करने के लिए कैंडिडेट्स की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए। स्टूडेंट्स 12वीं क्लास पास करने के बाद नीचे दिए गए ब्रोकर कैसे बनें बैचलर डिग्री कोर्सेज/ सर्टिफिकेट कोर्सेज कर सकते हैं।

बीए/ बीकॉम – फाइनेंस/ एकाउंटिंग/ इकोनॉमिक्स/ बिजनेस मैनेजमेंट/ मैथ्स

बीएससी – मैथ्स/ इकोनॉमिक्स

NSE सर्टिफिकेट – फाइनेंशिल मार्केट्स

NSE सर्टिफिकेट – मार्केट प्रोफेशनल

वहीं अगर आप ग्रेजुएट हैं तो आप नीचे दिए गए मास्टर डिग्री कोर्सेज या पीजी डिप्लोमा कोर्सेज कर सकते हैं और स्टॉक ब्रोकर के तौर पर अपना करियर शुरू कर सकते हैं।

Top Institute in India to Become Stock Broker

इंस्टीट्यूट ऑफ़ कंपनी सेक्रेटरीज़ ऑफ़ इंडिया, नई दिल्ली

इंस्टीट्यूट ऑफ़ कैपिटल मार्केट डेवलपमेंट, नई दिल्ली

दी ओरियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ कैपिटल मार्केट, नई दिल्ली

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, मुंबई

इंस्टीट्यूट ऑफ़ फाइनेंशियल एंड इन्वेस्टमेंट प्लानिंग, मुंबई

दी यूटीआई इंस्टीट्यूट ऑफ़ कैपिटल मार्केट, मुंबई

इंस्टीट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट्स ऑफ़ इंडिया, हैदराबाद

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद/ कलकत्ता, बैंगलोर/ लखनऊ

Salary and perks of Stock Broker

अन्य पेशे की तरह स्टॉक ब्रोकर में सैलरी पैकेज उसकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, परफॉरमेंस और वर्क एक्सपीरियंस पर निर्भर करती है। शुरू में ये पेशेवर एवरेज 2 -3 लाख रुपये सालाना कमा लेते हैं लेकिन कुछ सालों के अनुभव के बाद स्टॉक ब्रोकर एवरेज 5 -7 लाख रुपये सालाना तक कमा लेते हैं।

स्टॉक ब्रोकर को उसकी परफॉरमेंस के मुताबिक अक्सर इंसेंटिव भी दिया जाता है। बता दें कि किसी इन्वेस्टमेंट बैंकर के तौर पर स्टॉक ब्रोकर शुरू में एवरेज 12 लाख रुपये सालाना तक कमा लेते हैं। वहीं कुछ साल के अनुभव के बाद ये इन्वेस्टमेंट बैंकर्स एवरेज 30 लाख रुपये सालाना कमा लेते हैं।

स्टॉक ब्रोकर ब्रोकर कैसे बनें का काम क्या होता है? (Stock broker job description)

  • एक स्टॉक ब्रोकर का काम होता है शेयर को खरीदना और बेचना.
  • जब भी कोई नई कंपनी अपने शेयर लेकर आती है तो स्टॉक ब्रोकर ही होते हैं जो ब्रोकर कैसे बनें कई बड़े निवेशकों को इनके शेयर में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. वहीं शेयर को खरीदने का कार्य भी इन्हीं का होता है.
  • यदि कोई निवेशक शेयर को बेच रहा है तो उसे खरीदने वाले भी स्टॉक ब्रोकर ही होते हैं. हालांकि ये सारा काम अपनी कंपनी या फर्म के लिए करते हैं जिनके संबंध सीधे उन कंपनियों से होते हैं जो अपने शेयर उतार रही है.
  • इसके अलावा नए निवेशक तलाशना और उन्हें निवेश के लिए प्रोत्साहित करना भी एक स्टॉक ब्रोकर का काम होता है.
  • एक स्टॉक ब्रोकर को निवेशक का Demat account open करना और जरूरी कागजी कार्यवाही करना पड़ती है.

स्टॉक ब्रोकर कैसे बनें? (How to Become a Stock Broker?)

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए आपको ग्रेजुएट होना जरूरी है.

1) आप बिजनेस से संबन्धित किसी कोर्स में ग्रेजुएशन कर सकते हैं. जैसे ब्रोकर कैसे बनें कॉमर्स, मैनेजेमेंट, इक्नोमिक्स आदि. यदि आप पोस्ट ग्रेजुएट भी हैं तो भी आप अच्छे स्टॉक ब्रोकर बन सकते हैं.

2) ग्रेजुएशन के दौरान आप शेयर मार्केट को अच्छी तरह से जानें. इसके उतार-चढ़ाव को देखें.

3) शेयर मार्केट की बारीकियों को सीखें. इसकी हर टर्म को अच्छे से जाने.

4) लोगों के साथ बात करने के तरीके को सुधारें और विश्वासपात्र संबंध बनाने की कोशिश करें.

5) ग्रेजुएशन पूरा होने के बाद आप स्टॉक ब्रोकिंग या कैपिटल मार्केट से संबन्धित कोर्स कर सकते हैं. इसमें आपको शेयर मार्केट की बारीकियाँ सीखने को मिलेगी.

6) इन कोर्स को करने के बाद आप किसी अच्छी Stock Broking Company के साथ जुड़ें और कुछ वर्षों का अनुभव लें.

स्टॉक ब्रोकर की कमाई कितनी होती है? (Stock Broker Average Salary)

एक स्टॉक ब्रोकर की कमाई (Stock broker earning) की कोई सीमा नहीं है. यदि आप एक फ्रेशर के तौर पर किसी Stock Broking Company में Job करते हैं तो शुरुआती तौर पर आपको 10 से 30 हजार रुपये तक सैलरी मिल सकती है. लेकिन जैसे-जैसे आपका अनुभव बढ़ेगा, आपकी कमाई बढ़ती रहेगी. आप हर साल 7-8 लाख रुपये तक कमा सकते हैं.

इस सैलरी के अलावा यदि आपके पास पैसा है तो आप खुद भी निवेश करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. क्योंकि आप इस फील्ड के बारे में अच्छे से जानते हैं तो आप ये अनुमान लगा सकते हैं कि किस शेयर में पैसा लगाना आपके लिए फायदेमंद रहेगा.

स्टॉक ब्रोकर का करियर काफी सारी संभावनाओं से भरा है. इसमें कमाई की कोई सीमा नहीं है. आपने कई फिल्में देखी होगी जिनमें एक स्टॉक ब्रोकर अपने स्टॉक बेचने की कला से ही करोड़ों रुपये छाप देता है. इसका सबसे अच्छा उदाहरण ‘हर्षद मेहता’ है. हर्षद मेहता ने अपने दिमाग के बल पर शेयर मार्केट को एक अलग ही रुख दिया और बैंक से काफी घोटाला किया. लेकिन आखिर में ये पकड़े गए.

आवश्यकताओं को जांच लें

सब-ब्रोकर बनने की कुछ शर्तें होती हैं जिन्हें आपको पूरा करना होगा। एक सब-ब्रोकर या मास्टर फ्रैंचाइज़ी मालिक के रूप में आपको लगभग 200 वर्ग फुट के ऑफिस स्पेस की आवश्यकता होगी। यह स्पेस आमतौर पर ब्रोकरेज फर्म पर निर्भर करता है, जिसके साथ आप जा रहे हैं। आपको लगभग एक से दो लाख या उससे अधिक रुपए का रिफंडेबल शुल्क भी जमा करना होगा। अंत में अपने ब्रोकर की कमीशन स्ट्रक्चर जांच लें। हालांकि, वर्तमान परिस्थितियों के साथ और वर्क-फ्रॉम-होम विकल्प के साथ, व्यावसायिक स्पेस की आवश्यकता वैकल्पिक हो सकती है

बुनियादी जानकारी दें

शुरुआत में चुने गए ब्रोकिंग फर्म से कॉलबैक (Call back) का अनुरोध करें। फोन पर ही आपके बारे में, पढ़ाई-लिखाई (Education) के बारे में तथा पहले के कामकाज (Job or Profession) के बारे में जानकारी ली जाएगी। इसके साथ ही कुछ बुनियदी सवाल (Basic Questions) भी पूछे जाएंगे। इसका मकसद यह सुनिश्चित करना है कि आप और आपका ब्रोकर (Broker) दोनों एक-सा सोच रहे हैं।

रजिस्ट्रेशन फी और अकाउंट एक्टिवेशन

अंत में, आपको रजिस्ट्रेशन फी जमा करनी होगी। भुगतान करने के बाद आपको अपने खाते का बिजनेस टैग प्राप्त होगा। आपके ब्रोकर के आधार पर, आप और आपके कर्मचारी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, कस्टमर सपोर्ट और मार्केटिंग मैकेनिज्म पर ट्रेनिंग और जानकारी प्राप्त करेंगे। इसके बाद आप अपना काम शुरू कर सकते हैं। जब काम शुरू हो जाएगा तो जाहिर है कि भी कमाई भी शुरू हो जाएगी।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म. पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

रेटिंग: 4.40
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 321
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *