शुरुआती के लिए रणनीतियाँ

Dividend क्या होता है

Dividend क्या होता है
घरेलू शेयरधारकों के लिए लाभांश पर कर दायित्व

शेयर मार्केट में डिविडेंट क्या होता है | In Stock Market What is Dividends

माना किसी कंपनी का 500 शेयर आपने खरीदा , एक शेयर का मूल्य 100 है। तो कुल 500×100 = 50000 रुपैया का शेयर खरीदा। कुछ दिन बाद यह देखने में आया कि इस कंपनी के शेयर में 10 प्रतिशत का इज़ाफ़ा हुआ है। मतलब कुछ दिन बाद इस कंपनी के 100 रुपये वाले शेयर का प्राइस 110 रुपैया हो गया है।

अब आप सोचिए आप क्या करेंगे ? आप यह भी सोच सकते हैं नहीं शेयर का प्राइस और बढ़ेगा । या Dividend क्या होता है आप सोच सकते हैं मुझे जरूरत है तो कुछ शेयर को बेच देते हैं। खैर अभी आप शेयर को बेचेंगे तो आप 100 रुपैया में 10 रुपैया मुनाफा कमाएंगे ।

लेकिन कुछ लोग शेयर इसी दिन के लिए खरीदते हैं कि शेयर का प्राइस 10 प्रतिशत बढ़ा है तो इसे बेच देते हैं फिर दूसरे कंपनी का नया शेयर खरीदते हैं। कुछ लोग ऐसे ही शेयर की खरीद-बिक्री करते हैं। जिसे शेयर ट्रेडिंग कहते हैं। शेयर ट्रेडिंग से जल्दी मुनाफा कमाया जाता है।

शेयर डिविडेंट

कुछ लोग जिसके पास बहुत रुपैया है वह शेयर डिविडेंट से रुपैया कमाते हैं । शेयर डिविडेंट से तुरंत रुपैया नहीं कमाया जाता है। इसमें समय लगता है। लेकिन इसमें रिस्क भी बहुत ज्यादा है। शेयर डिविडेंट वार्षिक मिलता है। कंपनी का जो लाभांश होता है उसी लाभांश में आपका हिस्सा होता है (अगर आपने उस कंपनी का शेयर खरीद कर रखें हैं तब).

लाभांश :- एक नियत समय के बाद कंपनी को जो लाभ होता है उसे स्वरों की संख्या के अनुपात में सियार धारियों में बांट दिया जाता है जिसे लाभांश (Dividends) कहते हैं ।

कंपनी किस तरह से लाभांश का वितरण करती है, इसके बारे में मैंने डिटेल से पहले पोस्ट में लिखा है।

  • पहले पोस्ट में ही मैंने बताया था कि शेयर दो प्रकार का होता है एक अधिमान शेयर दूसरा सामान्य शेयर ।
  • सबसे पहले अधिमान (preferred) को लाभांश दिया जाता है उसके बाद ही सामान्य शेयर के शेयरधारकों को लाभांश दिया जाता है।
  • पिछले पोस्ट में ही मैंने बताया था शेयर का मूल्य दो तरह से निर्धारित होता है एक बाजार मूल्य होता है जो कंपनी द्वारा निर्धारित नहीं होता है ।
  • दूसरा अंकित मूल्य होता है जो कंपनी ही निर्धारित करती है कि एक शेयर का प्राइस कितना होगा। इसके बारे में भी मैंने पहले ही पोस्ट में बता दिया है।
  • कंपनी जो पहले अपने शेयर के मूल्य को निर्धारित करती है उसी मूल पर आपको लाभांश दिया जाता है।

डिविडेंड पर कैसे लगता है टैक्स?

डिविडेंड पर कैसे लगता है टैक्स?

2. किसी वित्त वर्ष में घरेलू कंपनी से मिले 10 लाख रुपये तक के डिविडेंड पर टैक्स से छूट मिलती है. यानी निवेशक को इस पर टैक्स नहीं देना पड़ता है.

3. किसी विदेशी कंपनी को अपने शेयरधारकों को दिए गए डिविडेंड पर डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स का भुगतान करने से छूट दी जाती है.

4. वहीं, विदेशी कंपनी से प्राप्त डिविडेंड निवेशकों के लिए टैक्सेबल होता है. इसे 'अन्य स्रोतों से आय' के तहत लिया जाता है. इस पर लागू दरों के अनुसार टैक्स वसूला जाता है.

5. म्यूचुअल फंडों से मिला डिविडेंड निवेशकों के लिए टैक्स फ्री है. लेकिन, उन्हें डेट फंडों के लिए 25 फीसदी की दर से डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (29.12 फीसदी सरचार्ज और सेस के साथ ) देना पड़ता है. इक्विटी फंडों के लिए यह 10 फीसदी (11.64 फीसदी सरचार्ज और सेस सहित) है.

निवासी और अनिवासी शेयरधारकों के लिए शेयरों से लाभांश आय पर कर | Taxation on Dividend क्या होता है dividend income from shares

  • Date : 08/10/2021
  • Read: 4 mins Rating : -->
  • Read in English: How much tax do you pay on dividend income from shares?

निवासी और अनिवासी शेयरधारकों के लिए लाभांश आय पर अलग-अलग कर लगाया जाता है।

शेयरों से होने वाली लाभांश आय पर आप कितना कर देते हैं?

एक निवेशक के रूप में आप निश्चित रूप से समय-समय पर अपने शेयरों पर लाभांश आय प्राप्त कर रहे होंगे। वित्त अधिनियम 2020 के तहत कर व्यवस्था में बदलाव के कारण 1 अप्रैल 2020 से शेयरधारक के हाथों में इस लाभांश आय को कर योग्य बनाया गया है।

Dividend और Dividend yield क्या है ?

Dividend:- कंपनी अपनी प्रॉफ़िट का कुछ हिस्सा अपने शेयर होल्डर को देती है। जिसे Dividend कहा जाता है। अगर कोई कंपनी रेगुलर Dividend दे रही है तो जरूरी नहीं हैं , कि कंपनी आगे भी Dividend देगी। यह तो कंपनी के Board of Directors पर निर्भर करता हैं , की Dividend देना है या नहीं देना है , देना है तो कितना और कब देना है। कंपनी इसके लिए बाद्य नहीं होती है की Dividend देना ही हैं। आमतोर पर छोटी कंपनी Dividend नहीं देती हैं। वह अपना प्रॉफ़िट कंपनी बिस्तर , न्यू प्रॉडक्ट व सर्विस लॉन्च करने में नई कंपनी खरीदने व नई प्लांट लगाने इत्यादि में खर्च करती हैं। जिससे कंपनी और बड़ी बन सके।

Dividend Yield:- कंपनी अपने मार्केट प्राइस के बदले हमें कितना Dividend दे रही है। यह जानने के लिए तथा दो कंपनी के Dividend Yield का इस्तेमाल से Dividend देने बाले कंपनी का Dividend तुलना करने के लिए भी किया जाता हैं. जैसे -

Market Value or Face Value क्या है ?

Market Value:- वर्तमान काल में शेयर का जो प्राइस चल रहा होता हैं। वही Market Value कहलाता हैं। (जिस प्राइस में आप और हम शेयर खरीद-बिक्री करते है उसी को Market Value कहा जाता है।जैसे- ABC कंपनी का एक शेयर कि कीमत 1000 रुपय हैं तो 1000 रुपय Market Value हुआ।)

Note: - Market Value, supply और demand की वजह से कम और ज्यादा होता रहता हैं।

Face Value:- जब कोई कंपनी IPO लाती है तब कंपनी शेयर का एक Face Value निर्णय ( decide) करती है। ( Face Value, Market Value की तरह कम या ज्यादा नहीं होती है , इसको supply और demand से कुछ लेना देना नहीं हैं।) Face Value सिर्फ कुछ विशेष आयोजन ( special event ) में ही चेंज होती है जैसे - Stock Split & Consolidation .

लाभांश का विवरण(Description of dividend)

लाभांश का विवरण(Description of dividend): अपने शेयरधारकों को भुगतान करने के बाद, एक कंपनी अपने शेयरधारकों को लाभांश के रूप में पुरस्कृत करने के लिए आंशिक या पूरे लाभ का उपयोग कर सकती है। हालाँकि, जब कंपनी को नकदी की कमी का सामना करना पड़ता है या जब उन्हें पुनर्निवेश के लिए नकदी की आवश्यकता होती है, तो वे लाभांश का भुगतान करना भी छोड़ सकते हैं। जब कोई कंपनी लाभांश की घोषणा करती है, तो वह Dividend क्या होता है एक रिकॉर्ड तिथि भी तय करती है और उस तारीख तक पंजीकृत सभी शेयरधारक अपनी शेयरधारिता के अनुपात में लाभांश भुगतान प्राप्त करने के पात्र हो जाते हैं। स्टॉक आम तौर पर रिकॉर्ड तिथि से दो कार्यदिवस पहले तक लाभांश के साथ खरीदे या बेचे जाते हैं और फिर वे पूर्व-लाभांश में बदल जाते हैं। कंपनियां निवेशकों को पुरस्कृत करने के लिए नियमित लाभांश का नकद भुगतान देने की कोशिश करती हैं।

लाभांश के प्रकार(Types of Dividends)

एक कंपनी अपने शेयरधारकों को विभिन्न प्रकार के लाभांश का भुगतान कर सकती है। शेयरधारकों को मिलने वाले सबसे सामान्य प्रकारों की सूची और संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है।

नकद(Cash) – यह कंपनी से सीधे शेयरधारकों को वास्तविक नकदी का भुगतान है और यह भुगतान का सबसे सामान्य प्रकार है। भुगतान आमतौर पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से ट्रांसफर किया जाता है, लेकिन चेक या नकद द्वारा भी भुगतान किया जा सकता है।

स्टॉक(Stock) – कंपनी में नए शेयर जारी करके शेयरधारकों को स्टॉक लाभांश का भुगतान किया जाता है। निवेशक के पास पहले से मौजूद शेयरों की संख्या के आधार पर इनका भुगतान यथानुपात किया जाता है।

संपत्ति(Assets) Dividend क्या होता है – एक कंपनी अपने शेयरधारकों को नकद या शेयरों के रूप में वितरण का भुगतान करने तक सीमित नहीं है। एक कंपनी अन्य परिसंपत्तियों जैसे निवेश प्रतिभूतियों, भौतिक संपत्ति और अचल संपत्ति का भुगतान भी कर सकती है, हालांकि यह एक सामान्य प्रथा नहीं है।

लाभांश स्टॉक क्यों खरीदें?( Why buy dividend stocks?)

लाभांश का भुगतान करने वाले स्टॉक एक स्थिर और बढ़ती आय धारा प्रदान कर सकते हैं। निवेशक आमतौर Dividend क्या होता है पर उन कंपनियों में निवेश करना पसंद करते हैं जो साल दर साल बढ़ते लाभांश की पेशकश करते हैं, जो मुद्रास्फीति को दूर करने में मदद करता है। अच्छी तरह से स्थापित कंपनियों द्वारा लाभांश का भुगतान करने की अधिक संभावना है, जिन्हें अब अपने व्यवसाय में अधिक से अधिक धन का पुनर्निवेश करने की आवश्यकता नहीं है। Dividend क्या होता है क्योंकि उन्हें उस विकास का विस्तार करने के लिए मुनाफे को फिर से निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है।

सामान्य स्टॉक पर लाभांश की गारंटी नहीं है। हालांकि, एक बार जब कोई कंपनी लाभांश की स्थापना या वृद्धि करती है, तो निवेशक इसे कठिन समय में भी बनाए रखने की उम्मीद करते हैं। क्योंकि लाभांश को कंपनी की वित्तीय भलाई का संकेत माना जाता है, निवेशक अक्सर एक स्टॉक का अवमूल्यन करते ही है।

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 553
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *