शुरुआती के लिए रणनीतियाँ

महंगाई से बचाव

महंगाई से बचाव
Smart Cooking Hacks: घर के बजट का बड़ा हिस्सा किचन में जाता है. इसलिए यह बेहद जरूरी है कि कुछ स्मार्ट कुकिंग हैक्स की मदद से आप अपने बजट को मैनेज करें.

महंगाई से बचाव

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

अक्टूबर महीने के महंगाई आंकड़े सोमवार को आने वाले हैं लेकिन उससे पहले ही शनिवार को आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने संकेत दिया कि महंगाई का आंकड़ा अक्टूबर महंगाई से बचाव में कम हो सकता है। उनका अनुमान है कि यह 7 फीसदी से नीचे रहेगी। उन्होंने और क्या कहाः

रसोई गैस के दाम पर समिति, राहुल फैक्टर का असर?

केंद्र सरकार ने रसोई गैस की कीमत का फॉर्म्युला महंगाई से बचाव तय करने के लिए एक समिति गठित की है। लेकिन इस समिति की घोषणा कांग्रेस नेता राहुल गांधी के 500 रुपये में सिलेंडर देने के ऑफर के बाद की गई। तो क्या वाकई सरकार ने राहुल के दबाव में यह समिति बनाई है। इस खेल को समझना आसान नहीं है। समिति की रिपोर्ट इसी महीने आएगी लेकिन उस पर अमल 6 महीने बाद यानी 2023 में होगा। 2024 में आम चुनाव है। सिर्फ सत्य हिन्दी पर प्रकाशित इस रिपोर्ट से समझिए पूरा राजनीतिक खेल।

काला जादू को लेकर पीएम मोदी की टिप्पणी पर विवाद खत्म नहीं हो रहा है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को पीएम मोदी पर सीधे अटैक किया।

महंगाई पर निर्मला को तमिलनाडु का जवाब - केंद्र सरकार फ्यूल पर टैक्स घटाए

बढ़ती महंगाई पर सरकार अजीबोगरीब तर्कों से अपने बचाव में जुटी है। लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उन्हीं पुराने तर्कों से बचाव किया। निर्मला ने यह भी कहा कि राज्य पेट्रोल-डीजल पर टैक्स घटाएं। इसके जवाब में तमिलनाडु सरकार ने आंकड़े पेश करते हुए कहा कि दरअसल केंद्र सरकार फ्यूल पर टैक्स घटाए, ताकि जनता को राहत मिल सके।

केंद्र सरकार ने बढ़ती महंगाई के बचाव में संसद में पुराने तर्क ही पेश किए। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि ग्लोबल एजेंसियों ने भारत को तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बताया है। हमारा देश मंदी का शिकार नहीं होगा। कांग्रेस ने इन तर्कों को स्वीकार नहीं किया।

स्मृति ईरानी का फ्लाइट में 'बढ़ती महंगाई' से सामना

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईऱानी ने दिल्ली से गुवाहाटी जा रही फ्लाइट में महंगाई पर सवालों का सामना किया और वो ठोस जवाब नहीं दे सकीं। बचाव में उनके तर्क अजीबोगरीब थे। महिला कांग्रेस की कार्यवाहक अध्यक्ष नेट्टा डिसूजा ने इस पूरी बातचीत का वीडियो बनाकर ट्विटर पर पोस्ट कर दिया।

देश की आम जनता की कमर महंगाई से टूट चुकी है। खाने के तेल से लेकर पेट्रोल-डीजल तक और दालों से लेकर फलों तक सब कुछ बहुत महंगा हो चुका है।

महंगाई से बचाव को मुख्य साधन बचत

महंगाई से बचाव को मुख्य साधन बचत

जिला सहायक बचत अधिकारी मनसा श्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर संचायिका दिवस समारोह का शुभारंभ किया। छात्र-छात्राओं ने 'बचत कैसे करें' शीर्षक पर लघु नाटक प्रस्तुत कर बचत करने के प्रति प्रेरित किया, जिसकी खूब सराहना की गई। छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि सहायक बचत अधिकारी मनसा श्री ने कहा कि बचत ही एक ऐसा माध्यम है, जो बढ़ती महंगाई से मुकाबला कर सकता है। बच्चों को बचपन से ही बचत की आदत डालनी चाहिए। इसमें अभिभावक भी अपनी भूमिका निभाएं। स्कूलों में संचायिका का प्राविधान बच्चों में बचत की आदत को प्रोत्साहित करता है। एसएन इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य इकबाल हसन खां ने कहा कि बचत का उद्देश्य परिवार की आर्थिक सहायता करने के साथ-साथ राष्ट्र विकास में भी मददगार है। बच्चों को आज से ही गोलक बनाकर बचत की आदत डालनी चाहिए। सर्वाधिक बचत करने के लिए छात्रा लुत्फी को पुरस्कृत किया गया। प्रधानाचार्य अखलाक हसन खां ने अतिथियों का आभार जताया। इस मौके पर इरफान सागर, डॉ.एमके मलिक, नसीम खां, फुरकान हाशमी, अयाज अहमद खां, वसीमउद्दीन खां, कमाल शम्सी, शारिक अली, सखावत उल्ला खां, मुमताज अहमद, अफसार अहमद, रजिया, मधु सक्सेना आदि मौजूद रहे।

महंगाई से बचाव को मुख्य साधन बचत

महंगाई से बचाव को मुख्य साधन बचत

जिला सहायक बचत अधिकारी मनसा श्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर संचायिका दिवस समारोह का शुभारंभ किया। छात्र-छात्राओं ने 'बचत कैसे करें' शीर्षक पर लघु नाटक प्रस्तुत कर बचत करने के प्रति प्रेरित किया, जिसकी खूब सराहना की गई। छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि सहायक बचत अधिकारी मनसा श्री ने कहा कि बचत ही एक ऐसा माध्यम है, जो बढ़ती महंगाई से मुकाबला कर सकता है। बच्चों को बचपन से ही बचत की आदत डालनी चाहिए। इसमें अभिभावक भी अपनी भूमिका निभाएं। स्कूलों में संचायिका का प्राविधान बच्चों में बचत की आदत को प्रोत्साहित करता है। एसएन इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य इकबाल हसन खां ने कहा कि बचत का उद्देश्य परिवार की आर्थिक सहायता करने के साथ-साथ राष्ट्र विकास में भी मददगार है। बच्चों को आज से ही गोलक बनाकर बचत की आदत डालनी चाहिए। सर्वाधिक बचत करने के लिए छात्रा लुत्फी को पुरस्कृत किया गया। प्रधानाचार्य अखलाक हसन खां ने अतिथियों का आभार जताया। इस मौके पर इरफान सागर, डॉ.एमके मलिक, नसीम खां, फुरकान हाशमी, अयाज अहमद खां, वसीमउद्दीन खां, कमाल शम्सी, शारिक अली, सखावत उल्ला खां, मुमताज अहमद, अफसार अहमद, रजिया, मधु सक्सेना आदि मौजूद रहे।

RBI देगी सरकार को सफाई, भारत में महंगाई काबू में नहीं आने के पीछे हो सकती है ये बड़ी वजहें

rbi-agencies

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास का कहना है कि रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध की वजह से दुनिया भर में महंगाई बढ़ी है. 24 फरवरी के बाद से दुनिया भर में महंगाई में तेज वृद्धि देखी गई है. फरवरी में रूस द्वारा यूक्रेन पर किए गए हमले के बाद बैंक ऑफ जापान से लेकर यूरोपीय सेंट्रल बैंक तक महंगाई पर काबू पाने में विफल रहे हैं. जब महंगाई की चोट शुरू हो गई तब उन्होंने बचाव के उपाय करने शुरू किए हैं.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने महंगाई के आंकड़े हाथ से निकलते देखकर रेपो रेट में बढ़ोतरी नहीं करने की नीति का बचाव किया है. उन्होंने कहा कि अगर समय से पहले ब्याज दर में वृद्धि शुरू हो जाती तो अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट घट जाती. इससे इकनोमी और लोगों पर भारी बोझ पड़ता. दास ने बैंकरों के वार्षिक एफआईबीएसी सम्मेलन में यह बात कही है.

'महंगाई की मार'

कमर्शियल एलपीजी की कीमत 1859.50 रुपये से घटाकर 1744 रुपये प्रति सिलेंडर कर दी गई महंगाई से बचाव है. 19 मई, 2022 के बाद से कीमतों में यह लगातार छठी कमी है.

India | Reported by: हिमांशु शेखर मिश्र, Edited by: सचिन झा शेखर |मंगलवार अक्टूबर 25, 2022 08:39 PM IST

देश में महंगाई की मार के बीच त्योहारों के सीजन में नवरात्र से अब तक डेढ़ लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का कारोबार हुआ है. धनतेरस में करीब 45000 करोड़ का कारोबार हुआ है.

3.99 रुपये की वृद्धि से उपभोक्ताओं पर लगभग 58.5 अरब रुपये का बोझ पड़ेगा, जिसमें 17 प्रतिशत जीएसटी भी शामिल है. गौरतलब है कि सेंट्रल पावर परचेजिंग एजेंसी-गारंटी लिमिटेड (CPPA-G) ने अप्रैल 2022 के महीने के लिए 4.5 रुपये प्रति यूनिट के FCA का अनुरोध किया था.

पाकिस्तान (Pakistan) में बढ़ते तेल महंगाई से बचाव के दामों (Oil Pirces) के लिए भी PM शहबाज शरीफ (Shehbaz Sharif) ने इमरान खान (Imran Khan) के सिर पर ठीकरा फोड़ा. शहबाज शरीफ ने कहा, "सबकी सार्वजनिक तौर पर बेइज्जती करने वाले इमरान खान ने पैट्रोल के उत्पादों के दाम उस समय कम किए जब दुनियाभर में सके दाम बढ़ रहे थे. लेकिन यह उन्होंने इसलिए किया क्योंकि उन्होंने अंदाजा हो गया था कि उन्हें सत्ता से उखाड़ कर फेंक दिया जाएगा."

रेटिंग: 4.50
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 202
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *